APJ Abdul Kalam Biography in Hindi | ए पी जे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय

“सपने वो नहीं जो नींद में आते हैं, सपने तो वो हैं जो नींद नहीं आने देते।”

-डॉ0 ए0पी0जे0 अब्दुल कलाम

“भारत के मिसाइल मैन” डॉ0 ए0पी0जे0 अब्दुल कलाम भारतीय गणतंत्र के 11 वें निर्वाचित राष्ट्रपति के रूप में जाने जाते हैं । 2002 में लक्ष्मी सहगल के विरुद्ध चुनकर वे राष्ट्रपति के पद पर सुशोभित हुए ।  राष्ट्रपति बनने के पूर्व डॉ0 कलाम ने ISRO तथा DRDO में विभिन्न प्रोजेक्ट्स व पदों पर कार्य किया । भारत के सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न से भी डॉ0 अब्दुल कलाम को सम्मानित किया गया ।

भारत के लिए मिसाइल विकास कार्यक्रम व अंतरिक्ष कार्यक्रम के विकास में उनके अविस्मरणीय योगदान के कारण ही उन्हे “मिसाइल मैन ऑफ इण्डिया” के नाम से भी जाना जाता है । इसके अतिरिक्त पोखरण में भारत द्वारा 1998 में किए गए द्वितीय परमाणु परीक्षण में भी इन्होंने अति महत्वपूर्ण योगदान दिया ।  देश के राष्ट्रपति बनने से पूर्व वे प्रधानमंत्री के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार भी रहे ।

दोस्तों ! डॉक्टर अब्दुल कलाम की जीवन गाथा किसी रोचक उपन्यास के नायक की कहानी से कम नहीं है, तो आइए हम अपने इस लेख APJ Abdul Kalam Biography in Hindi | ए पी जे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय के माध्यम से जानते हैं इस महान वैज्ञानिक की जीवन गाथा ।

ए पी जे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय

बिन्दुसूचना
नाम ए पी जे अब्दुल कलाम
पूरा नाम डॉ0 अबुल पाकिर जैनुलाब्दीन अब्दुल कलाम
उपनाम मिसाइल मैन, जनता के राष्ट्रपति
जन्मतिथि 15 अक्टूबर 1931
जन्म स्थान धनुषकोडी, रामेश्वरम, तमिलनाडु, भारत
पिता का नामजैनुलाब्दीन माराकियर
माता का नाम आशियम्मा
वैवाहिक स्थिति अविवाहित
शिक्षा भौतिकी में स्नातक, एयरोस्पेस इंजीनीयरिंग में डिग्री
शिक्षा ग्रहण स्कूल /कॉलेजसेंट जोसेफ कॉलेज तिरुचिरापल्ली, मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, क्रोमपेट,मद्रास
पेशाइंजीनियर, लेखक, प्रोफेसर, वैज्ञानिक ( एयरोस्पेस इंजीनियर ), राजनीतिज्ञ
शौक पुस्तकें पढ़ना, लिखना, वीणा वादन
राष्ट्रीयता भारतीय
डॉ0 कलाम का राष्ट्रपति कार्यकाल 25/07/2002- 25/07/2007
प्रमुख पुरस्कार/ सम्मान भारत रत्न ( 1997 ), पद्म विभूषण ( 1990 ), पद्मभूषण ( 1981 )
धर्म इस्लाम
मृत्यु 27 जुलाई, 2015
मृत्यु के समय आयु 83 वर्ष
समाधि का स्थान रामेश्वरम , तमिलनाडु में स्थित पेई करुंबू
मृत्यु स्थल शिलांग, मेघालय, भारत

ए पी जे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय, जीवनी, इतिहास,निबंध, विकिपीडिया, किताबें, पुरस्कार, विचार परिवार , पत्नी, बच्चे, जयंती, APJ Abdul Kalam Biography in Hindi, apj abdul kalam biography in hindi, biography of apj abdul kalam in hindi, wikipedia, History, Quotes, Full Name, Awards

Topics Covered in This Page

ए0पी0जे0 अब्दुल कलाम का प्रारंभिक जीवन व परिवारिक इतिहास – APJ Abdul Kalam Early Life & Family History

Dr. APJ Abdul Kalam Biography in Hindi
DR. APJ ABDUL KALAM

एपीजे अब्दुल कलाम 15 अक्टूबर 1931 को धनुषकोडी गांव, रामेश्वरम, तमिलनाडु में एक मध्यमवर्गीय तमिल मुस्लिम परिवार में पैदा हुए थे। एपीजे अब्दुल कलाम के पिता का नाम जैनुलाब्दीन था, वे एक नाविक थे। इनकी माता का नाम आशियम्मा था । इन के 3 बड़े भाई थे और एक बड़ी बहन थी अर्थात यह कुल पांच बहन भाई थे ।

इनकी बड़ी बहन का नाम आसिम जोहरा था, और तीनों बड़े भाइयों के नाम कासिम मोहम्मद, मुस्तफा कमल, मोहम्मद मुथु माराकियर था । अब्दुल कलाम अविवाहित थे और हमेशा अपने परिवार की मदद करते थे।

यह भी पढ़ें : प्रेमचन्द का जीवन परिचय | Biography Of Premchand In Hindi| PremChand Ka Jivan Parichay

APJ Abdul Kalam Biography in Hindi | ए पी जे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय लेख से आप इनके पारिवारिक इतिहास के बारे में समझ सकते हैं -इनके पूर्वज जमीदार, व धनाढ्य व्यापारी थे, जिनके पास बहुत संपत्ति और भूमि थी। वे श्रीलंका से सामान का व्यापार करते थे और पामबन आईलैंड तक तीर्थ यात्रियों को नौका विहार के जरिए लाने ले जाने का काम करते थे अतः इनके परिवार को “Mara Kalam Iyakkivar” अर्थात “लकड़ी की नाव चलाने वाले” कहा जाने लगा और धीरे-धीरे बाद में लोग इन्हें “माराकियर ” ( Marakier ) के नाम से जानने लगे।

परंतु 1920 के दशक तक आते-आते इनके पूर्वजों का व्यवसाय फेल हो जाने की वजह से उनकी आर्थिक स्थिति खराब हो चली थी, अब्दुल कलाम के जन्म के समय इनका परिवार गरीबी से संघर्ष कर रहा था। इसी कारण गांव में अपनी प्रारंभिक शिक्षा के दौरान अब्दुल कलाम ने बहुत छोटी उम्र में अखबार बेचना शुरू किया।

>Kabir Das Ka Jivan Parichay । कबीर दास का जीवन परिचय । Kabir Das Biography In Hindi

>जानिए महान भक्त कवि सूरदास जी के जीवन व रचनाओं के बारे में सविस्तार जानकारी, surdas-ka-jivan-parichay 

अपनी प्रारंभिक शिक्षा की पढ़ाई के दिनों में अब्दुल कलाम सामान्य छात्र थे परंतु फिर भी कुछ नया सीखने के लिए बहुत उत्सुक व हमेशा तैयार रहते थे। गणित विषय में इनकी बहुत रूचि थी। उनके एक अध्यापक जिनका नाम अयादुरै सोलोमन था, उन्होंने कलाम से बचपन में कहा था ” मनुष्य को जीवन में शानदार परिणाम प्राप्त करने व सफल होने के लिए आस्था, अपेक्षा और  इच्छा को मानना व समझना जरूरी है ।”

एपीजे अब्दुल कलाम की शिक्षा- APJ Abdul Kalam Education

अब्दुल कलाम ने तमिलनाडु के रामनाथपुरम से Schwartz Higher Secondary School  से मैट्रिक पास करने के बाद St. Joseph College , तिरुचिरापल्ली से भौतिक विज्ञान विषय में 1954 में स्नातक पास किया। फिर उन्होंने मद्रास इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से 1955 में एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में शिक्षा प्राप्त की।

यह भी पढ़ें : Bhagat Singh Biography In Hindi, भगत सिंह का जीवन परिचय, Biography Of Bhagat Singh In Hindi

फिर वे हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड बेंगलौर चले गए जहां से उन्होंने वैमानिक अभियंता की पढ़ाई की। वे हमेशा एक लड़ाकू विमान पायलट बनना चाहते थे परंतु  परीक्षा में नौवां स्थान होने के कारण इसमें सफल नहीं हो सके क्योंकि IAF के द्वारा  केवल 8 ही परिणाम घोषित किए थे।

0पी0जे0 अब्दुल कलाम का कैरियर – APJ Abdul Kalam Career

अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद 1960 में अब्दुल कलाम भारतीय रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन के वैमानिकी विकास प्रतिष्ठान में एक वैज्ञानिक के रूप में कार्य करने लगे। अब्दुल कलाम भारत के प्रसिद्ध वैज्ञानिक विक्रम साराभाई के साथ भारतीय राष्ट्रीय समिति का हिस्सा भी रहे।

DRDO ( Defence Research and Development Organisation) में कार्य करते हुए उन्होंने अपने कैरियर की शुरुआत में एक छोटा होबर क्राफ्ट डिजाइन किया , जिसको उन्होंने ‘नन्दी’ नाम दिया। इसके बाद कलाम की प्रतिभा चहूँओर फैलने लगी ।  अपने कैरियर के शुरुआती दौर में उन्होंने सेना के लिए एक छोटा हेलीकॉप्टर तैयार किया।

यह भी पढ़ें : Navratri Essay in Hindi,नवरात्रि पर निबंध,Chaitra Navratri 2022

डॉ0 अब्दुल कलाम ने 1963 से 1964 तक गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर, जो कि रक्षा मैरीलैंड के ग्रीन बेल्ट में स्थित है, वालप्स फ्लाइट दक्षता ( वर्जीनिया के पूर्वी तट पर स्थित ) , तथा वर्जीनिया के ही हैंपटन में स्थित नासा के एक रिसर्च सेंटर लैंगली का दौरा किया ।

1965 में DRDO में इन्होंने एक रॉकेट परियोजना पर स्वतंत्र रूप से कार्य किया परंतु अपने महत्वाकांक्षी स्वभाव के कारण वह DRDO में कार्य करते हुए संतुष्ट नहीं थे।

ISRO में अब्दुल कलाम – APJ Abdul Kalam in ISRO (APJ Abdul Kalam Biography in Hindi)

1969 में अब्दुल कलाम जी को इसरो में स्थानांतरण का आदेश मिला, इस आदेश को देखकर वह प्रसन्न हो गए , मानो वे अपनी जिंदगी से ऐसे ही किसी मौके की उम्मीद कर रहे थे । इसरो में अब्दुल कलाम जी ने SLV-III के परियोजना निदेशक के तौर पर कार्य किया।

जुलाई 1980 में वे अपनी टीम के साथ रोहिणी उपग्रह के मिशन पर कार्य कर रहे थे और उनकी टीम ने पृथ्वी की कक्षा के पास रोहिणी उपग्रह को स्थापित करने में सफलता हासिल की। हमारे देश का यह पहला स्वदेशी व स्वनिर्मित उपग्रह प्रक्षेपण यान माना जाता है। इस प्रोजेक्ट की सफलता ने डॉ कलाम को पूरे देश में एक नई पहचान दी, और उनकी इसी उपलब्धि के लिए उन्हें पद्मभूषण से सम्मानित किया गया।

यह भी पढ़ें : 5 Best Poems Collection | कविता-संग्रह | “जीवन-सार”

सन 1969 में अब्दुल कलाम ने कार्यक्रम का विस्तार करने हेतु अपनी टीम में और अधिक इंजीनियरों को शामिल करने के लिए भारत सरकार की ओर से स्वीकृति प्राप्त की । बाद में उन्होंने ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान ( PSLV ) का विकास करने के लिए 1970 के दशक में प्रयास किया जिससे कि भारत Sun-Synchronous कक्षा में स्वयं के भारतीय रिमोट सेंसिंग ( IRS ) उपग्रह को लॉन्च कर सके ।  इनका PSLV प्रोजेक्ट सफल रहा और इसको सर्वप्रथम 20 सितंबर 1993 को सफलतापूर्वक लॉन्च किया ।

डॉ0 अब्दुल कलाम (APJ Abdul Kalam) ने 1970 से 1990 तक SLV-III तथा ध्रुवीय SLV प्रोजेक्ट्स का विकास करने में अपने सफलतम प्रयास किए। डॉ0 अब्दुल कलाम ने वालिएंट तथा डेविल प्रोजेक्ट का निर्देशन किया जिसका प्रमुख उद्देश्य SLV कार्यक्रम की टेक्नोलॉजी का प्रयोग करके बैलिस्टिक मिसाइलों का विकास करना था, जो कालांतर में सफल रहा।

उन्हीं दिनों 1980 के दशक के प्रारंभ में DRDO के प्रबंधन व भारतीय रक्षा मंत्रालय ने कुछ अन्य गवर्नमेंट ऑर्गेनाइजेशन्स के साथ सामूहिक रूप से Integrated Guided Missile Development Program ( IGMDP ) प्रारंभ किया, तथा डॉक्टर अब्दुल कलाम को इस प्रोजेक्ट का मुख्य अधिकारी नियुक्त किया गया और इस तरह वह फिर से DRDO में वापस आ गए, भविष्य में उन्हीं के सफल निर्देशन 1988 में पृथ्वी तथा 1989 में अग्नि तथा त्रिशूल , आकाश , नागब्रह्मोस जैसी मिसाइलों का सफल रुप से विकास किया गया, जिन्हें जल, थल व कहीं से भी दागा जा सकता है।

APJ Abdul Kalam Biography in Hindi | ए पी जे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय के माध्यम से आप जान सकते हैं कि इन समस्त मिसाइलों के निर्माण की वजह से रक्षा क्षेत्र में विश्व मंच पर भारत की सैन्य ताकत और प्रभाव में वृद्धि हुई । डॉक्टर कलाम के रक्षा एवं अंतरिक्ष अनुसंधान क्षेत्र में अकल्पनीय योगदान के लिए भारत सरकार ने सन 1997 में इस महान वैज्ञानिक को देश के सर्वोच्च सम्मान “भारत रत्न” से अलंकृत किया।

यह भी पढ़ें : शार्क टैंक इण्डिया : क्या है ?। About Shark Tank India 2022। Shark Tank India Registration | Shark Tank India Kya Hai

भारतीय रक्षा प्रणाली को मजबूती देने तथा शानदार मारक क्षमता वाली मिसाइलों के निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान देने के कारण ही उन्हें भारत के मिसाइल मैन” के नाम से जाना जाता है । डॉक्टर अब्दुल कलाम जी जुलाई 1992 से दिसंबर 1999 तक रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन के सचिव के रूप में कार्यरत रहे और प्रधानमंत्री के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार के रूप में भी।

भारत के द्वारा पोखरण में किए गए द्वितीय परमाणु परीक्षण के कार्यक्रम में अब्दुल कलाम जी ने महत्वपूर्ण रूप से तकनीकी एवं राजनीतिक भूमिका का निर्वहन किया था,इन्हीं की मदद से प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी ने हमारे देश को पूर्ण विकसित परमाणु राज्य के रूप में घोषित किया।

Dr. APJ Abdul Kalam जी के बारे में इस तथ्य को बहुत कम लोग जानते हैं कि इन्होंने कार्डियोलॉजिस्ट डॉ0 सोमा राजू के साथ मिलकर 1998 में एक बहुत ही कम लागत वाली कोरोनरी स्टैंट का निर्माण किया था जो “कलाम- राजू स्टैंट” के नाम से जानी जाती है , और इन्हीं दोनों ने मिलकर एक टैबलेट का भी निर्माण किया जिसे “कलाम-राजू टैबलेट” के नाम से जाना जाता है ।

यह भी पढ़ें : Tulsidas Biography in Hindi । Tulsidas ka Jeevan Parichay । तुलसीदास का जीवन परिचय, जीवनी

डॉ0 ए0पी0जे0 अब्दुल कलाम भारतीय गणतंत्र के 11 वें राष्ट्रपति – APJ Abdul Kalam 11th President of  Indian Republic

APJ Abdul Kalam Biography in Hindi में आप पढ़ रहें हैं भारत के परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम तथा भारतीय अंतरिक्ष अभियान में अग्रणी व महत्वपूर्ण भूमिका निभाकर डॉ0 कलाम देश के लोगों व युवाओँ के हीरो बन गए थे ।  डॉक्टर कलाम की इन्हीं उपलब्धियों से प्रभावित होकर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन ( NDA) की सरकार व तत्कालीन प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी बाजपेई जी ने डॉ0 कलाम को 2002 में राष्ट्रपति पद के लिए अपने उम्मीदवार के तौर पर उतारा, अब्दुल कलाम ने अपने प्रतिद्वंदी लक्ष्मी सहगल को विशाल मतों से हराया और 25 जुलाई 2002 को भारतीय लोकतंत्र के 11 वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली।

इन्हें राष्ट्रपति चुने जाने से पूर्व ही देश का सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न मिल चुका था अतः यह देश के ऐसे तीसरे राष्ट्रपति थे जिन्हें राष्ट्रपति बनने से पूर्व ही भारत रत्न पुरस्कार मिल चुका था, यह राष्ट्रपति डॉ0 जाकिर हुसैन और डॉ0 सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी थे ।  डॉक्टर अब्दुल कलाम का राष्ट्रपति के रूप में कार्यकाल देश का स्वर्ण युग कहा जा सकता है ।  उन्होंने अपने कार्यकाल में भारतीय आम जनमानस के प्रति जो सद्भाव, संवेदना तथा अपनी कर्तव्यनिष्ठा का निर्वहन किया वह चिर स्मरणीय रहेगा ।

राष्ट्रपति पद से सेवानिवृत्त होने के बाद का जीवन – Life after Retiring from the Presidency

देश के प्रथम नागरिक की जिम्मेदारी से निवृत्त होने के बाद उन्होंने सुख-सुविधा व ऐशो-आराम के जीवन को प्राथमिकता नहीं दी, क्योंकि वे विजन 2022 के माध्यम से अपने देश को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर समृद्ध और शक्तिशाली राष्ट्र के रूप में देखने का संकल्प लिए हुए थे ।  

यह भी पढ़ें : पढ़ाने के खास अंदाज़  के लिए प्रसिद्ध, खान सर पटना का जीवन परिचय | Khan Sir Patna Biography

अतः उन्होंने राष्ट्रपति पद के दायित्व को पूर्ण करने के बाद संपूर्ण देश में प्रवास करना प्रारंभ किया ।  वे देश के विभिन्न विद्यालय, महाविद्यालय तथा प्रबंध संस्थानों में जाकर अपने लेक्चर देते थे, और देश के युवा छात्र उन्हें यूं मंत्रमुग्ध होकर सुना करते थे मानों कोई वरिष्ठ प्रवक्ता लेक्चर दे रहा हो ।  

देश के युवाओं के लिए यूथ आईकॉन बने डॉ0 कलाम – APJ Abdul Kalam : Youth Icon for the Youth of Country

अब्दुल कलाम अपनी प्रतिभा, ज्ञान और कार्यशैली के कारण भारतीय युवाओं के लिए एक यूथ आइकन बन गए थे। वे देश के युवाओं के लिए एक प्रेरणा स्रोत की तरह थे, वे हमेशा देश के युवाओं का भविष्य बेहतर बनाने के लिए प्रयासरत थे । वे हमेशा भ्रष्टाचार रहित विकसित भारत का सपना देखते थे। देश के युवाओं में उनकी लोकप्रियता का आलम ऐसा था कि उन्हें दो बार ” एम टीवी यूथ आईकॉन ऑफ द ईयर अवार्ड ” भी प्रदान किया गया था।

0पी0जे0 अब्दुल कलाम जी के अनमोल विचार – APJ Abdul Kalam Priceless Thaughts

भले ही Dr. Abdul Kalam जी आज इस संसार में नहीं हैं परन्तु उनके अनमोल विचार हमारे देश के नागरिकों के दिलो-दिमाग पर अंकित है जो उन्हें हमेशा अपने जीवन में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करते हैं, ऐसे ही कुछ विचार यहां प्रस्तुत है-

“इंतजार करने वाले व्यक्ति को केवल उतना ही मिलता है जितना मेहनत  करने वाले पीछे छोड़ देते हैं।”

“आपके सिग्नेचर जिस दिन ऑटोग्राफ में बदल जाए समझ  लीजिए आप कामयाब हो गए हैं।”

“मनुष्य के जीवन में कठिनाइयों का होना बहुत जरूरी है, क्योंकि कठिनाइयों के बिना सफलता का आनंद नहीं लिया जा सकता।”

“हम अपना भविष्य नहीं बदल सकते, लेकिन अपनी आदतें बदली जा सकती है । और निश्चित रूप से आप की आदत ही आपका भविष्य बदल देंगी।”

“एक महान शिक्षक बनने के लिए तीन बातें सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होती हैं – ज्ञान, जुनून और करुणा।”

“सपने वो नहीं जो नींद में आते हैं, सपने तो वो हैं जो नींद नहीं आने देते।”

ए0पी0जे0 अब्दुल कलाम को मिले पुरस्कार व सम्मानAwards & Honour Recieved by APJ Abdul Kalam

APJ Abdul Kalam Biography in Hindi

वर्ष पुरस्कार/सम्मान प्रदान करने वाली संस्था
1981पद्म भूषणभारत सरकार
1990पद्म विभूषणभारत सरकार
1994विशिष्ट शोधार्थीInstitute of Directors India
1997भारत रत्नभारत सरकार
1997इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय एकता पुरस्कारIndian National Congress
1998वीर सावरकर पुरस्कारभारत सरकार
2000रामानुजन पुरस्कारअल्वार्स शोध संस्थान, चेन्नई   
2007डॉक्टर ऑफ साइंस की मानद उपाधिवूल्वर हैम्पटन यूनिवर्सिटी,यूनाइटेड किंगडम
2007किंग चार्ल्स मेडलरॉयल सोसाइटी, इंग्लैंड
2007डॉक्टर ऑफ साइंस एण्ड टेक्नोलॉजी की मानद उपाधिकार्नेगी मेलॉन यूनिवर्सिटी
2007डॉक्टर ऑफ साइंस की मानद उपाधिअलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय
2008डॉक्टर ऑफ इंजीनियरिंग की मानद उपाधिनानयांग टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी, सिंगापुर   
2009वॉन कार्मन विंग्स अंतर्राष्ट्रीय अवॉर्डकैलिफोर्निया इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी ( USA)
2009हूवर मेडलए0एस0एम0ई0 फाउंडेशन (USA) 
2009मानद डॉक्टरेटऑकलैंड यूनिवर्सिटी
2010डॉक्टर ऑफ इंजीनियरिंगयूनिवर्सिटी ऑफ वाटरलू
2011आई0ई0ई0ई0 मानद सदस्यता आई0ई0ई0ई0
2012डॉक्टर ऑफ लॉज की मानद उपाधिसाइमन फ्रेज़र यूनिवर्सिटी
2014डॉक्टर ऑफ साइंसएडिनबर्ग यूनिवर्सिटी, यूनाइटेड किंगडम

यह भी पढ़ें : भारतीय क्रिकेट के हिटमैन रोहित शर्मा का जीवन परिचय, जीवनी । Rohit Sharma Biography in Hindi

ए0पी0जे0 अब्दुल कलाम जी के द्वारा लिखी गयी पुस्तकें – APJ Abdul Kalam Books

दोस्तों APJ Abdul Kalam Biography in Hindi में आपको हम बताने जा रहे हैं उन किताबों के नाम जो डॉ0 कलाम ने लिखी –

APJ Abdul Kalam Biography in Hindi

क्रम सं0पुस्तक का नामवर्ष
1( India 2020 : A Vision for the new Millennium ) इण्डिया 2020 ए विजन फॉर द न्यू मिलेनियम1998
2विंग्स ऑफ फायर : एन ऑटोबायोग्राफी (Wings of Fire : An Autobiography ) 1999
3इगनाइटेड माइंडस : अनलीजिंग द पॉवर विदिन इण्डिया ( Ignited Minds : Unleasing the Power within India ) 2002
4द लयूमिनस स्पार्क्स : ए बायोग्राफी इन वर्स एंड कलर्स ( The Luminous Sparks :A Biography in Verse and Colours ) 2004
5मिशन ऑफ इंडिया : ए विजन ऑफ इंडियन यूथ ( Mission of India : A बिजनेसमैनVision of India Youth ) 2005
6इंस्पायरिंग थॉट्स : कोटेशन सीरीज (Inspiring Thoughts : Quotation Series) 2007
7यू आर बोर्न टू ब्लॉसम : टेक माय जर्नी बियोंड ( You are Born to Blossom : Take my Journey Beyond ) सह-लेखक – अरुण तिवारी 2011
8द साइंटिफिक इंडिया : ए ट्वेंटी फर्स्ट सेंचुरी गाइड टू द वर्ल्ड अराउंड अस ( The Scientific India : A Twenty First Centuary Guide to the World Around us ) सह-लेखक : वाई 0 एस 0 राजन2011
9टारगेट 3 बिलियन ( Target Three Billion ) सह-लेखक : श्रीजन पाल सिंह 2011
10टर्निंग प्वाइंट्स : ए जर्नी थ्रू चैलेंजेस ( Turning Points : A Journey Through Challenges ) 2012
11माय जर्नी : ट्रांसफॉर्मिंग ड्रीम्स इन टू एक्शन्स ( My Journey : Transforming Dreams into Actions ) 2013
12मेनिफेस्टो फॉर चेंज ( Manifesto For Change) सह-लेखक : वी0 पोनराज2014
13फ़ोर्ज योर फ्यूचर : कैंडिड, फ़ोर्थराइट , इंस्पायरिंग ( Forge Your Future : Candid , Forthright , Inspiring )2014
14बियॉन्ड 2020 : ए विजन फॉर टुमारोज इंडिया ( Beyond 2020 : A Vision for Tomorrow’S India ) 2014
15गवर्नेंस फॉर ग्रोथ इन इंडिया ( Governance for Growth in India ) 2014
16रिग्नाइटेड : साइंटिफिक पाथवेज टू ए ब्राइटर फ्यूचर ( Reignited : Scientific Pathways to a Brighter Future ) सह-लेखक : श्रीजन पाल सिंह2015
17द फैमिली एंड द नेशन ( The Family and the Nation ) 2015
18ट्रांसेडेन्स माई स्प्रिचुअल एक्सपीरियंसेज ( Transcendence My Spritual Experiences) सह-लेखक : अरुण तिवारी 2015

ए0पी0जे0 अब्दुल कलाम जी पर लिखी गई आत्मकथाएं –Biographies Written on  APJ Abdul Kalam

अब्दुल कलाम जी के संघर्षशील व सफल जीवन पर अलग-अलग लेखकों ने आत्मकथा लिखी हैं कुछ प्रमुख यहाँ दी गयी  हैं –

क्रमांक पुस्तक का नाम लेखक
1डॉ 0 ए0पी0जे0 अब्दुल कलाम : भारत के विजनरी ( A. P. J. Abdul Kalam : The Visionary of India ) के0 भूषण और जी0 नौटियाल
2राष्ट्रपति ए0पी0जे0 अब्दुल कलाम ( President A.P.J. Abdul Kalam )आर 0 के 0 प्रूथी
4महात्मा अब्दुल कलाम के साथ मेरे दिन ( My Days with Mahatma Abdul Kalam )फ्रेट ए 0 के 0 जार्ज
5कलाम प्रभाव : राष्ट्रपति के साथ के मेरे वर्ष ( The Kalam Effect : My Years with the President )पी0 एम 0 नायर
6ए लिटिल ड्रीम ( A Little Dream ) Documentary Film P. Dhanpal

यह भी पढ़ें : Lata Mangeshkar Biography in Hindi| स्वर-साम्राज्ञी-लता मंगेशकर का जीवन परिचय,जीवनी

ए0पी0जे0 अब्दुल कलाम जी पर बनी फिल्म – Film on APJ Abdul Kalam (APJ Abdul Kalam Biography in Hindi | ए पी जे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय)

डॉक्टर अब्दुल कलाम के संघर्षशील व्यक्तित्व को प्रदर्शित करती फिल्म 2011 में रिलीज हुई, जिसका नाम था “I am Kalam” , इस फिल्म का कथानक कुछ इस प्रकार था कि इसमें एक गरीब लड़का डॉक्टर कलाम के सकारात्मक विचारों को अभिनीत करता है, डॉक्टर कलाम से गहन रूप से प्रेरित है यहां तक कि वह स्वयं का नाम कलाम रख लेता है, इस फिल्म में डॉक्टर कलाम के विचारों, उनके प्रतिभाशाली व्यक्तित्व को बहुत ही बेहतरीन अंदाज में फिल्माया गया है ।

ए0पी0जे0 अब्दुल कलाम का निधन – Death of APJ Abdul Kalam ( APJ Abdul Kalam Biography in Hindi)

ए0पी0जे0 अब्दुल कलाम 27 जुलाई 2015 को एक कार्यक्रम के दौरान IIM शिलॉन्ग में जब व्याख्यान दे रहे थे तब उन्हें अचानक दिल का दौरा पड़ा और वे अचेत होकर वहीं गिर पड़े और उनकी स्थिति गंभीर हो गयी ।  उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाया गया जहाँ इलाज़ के दौरान उनकी मृत्यु हो गयी, और भारत माँ का यह सपूत हमेशा-हमेशा के लिए इस नश्वर संसार से विदा हो गया

यह भी पढ़ें : Republic day essay in hindi,गणतंत्र दिवस पर निबंध 2022

एपीजे अब्दुल कलाम का अंतिम संस्कार – APJ Abdul Kalam’s Funeral

अब्दुल कलाम जी का अंतिम संस्कार 30 जुलाई 2015 को उनके पैतृक गाँव में रामेश्वरम् के पास किया गया ।  शायद आपको ये तथ्य जानकार हैरानी होगी कि अब्दुल कलाम जी के अंतिम संस्कार में लगभग 350,000 लोग शामिल हुए , जिनमे प्रमुखतः देश के प्रधानमंत्री , तमिलनाडु प्रांत के राज्यपाल , कर्नाटक, आंध्र प्रदेश और केरल के मुख्यमंत्री शामिल रहे ।

डॉ0 ए0पी0जे0 अब्दुल कलाम के बारे में कुछ महत्वपूर्ण तथ्य – Important Facts About APJ Abdul Kalam

  • संयुक्त राष्ट्र ने 2015 में डॉक्टर अब्दुल कलाम के जन्मदिवस को “विश्व छात्र दिवस” के रूप में मान्यता दी ।
  • अब्दुल कलाम जी को लगभग 40 विश्वविद्यालयों द्वारा डॉक्टरेट की मानद उपाधि प्राप्त थी ।
  • डॉ0 अब्दुल कलाम के मरणोपरांत तमिलनाडु सरकार ने उनके जन्मदिन अर्थात 15 अक्टूबर को राज्य में “युवा पुनर्जागरण दिवस” के रूप में मनाने का ऐलान किया।
  • इसके साथ ही तमिलनाडु सरकार ने डॉक्टर कलाम के नाम पर “डॉ एपीजे अब्दुल कलाम पुरस्कार” की घोषणा भी की, इस पुरस्कार के अंतर्गत 8 ग्राम वजन का स्वर्ण पदक व ₹500000 नकद राशि प्रदान की जाती है, यह पुरस्कार वैज्ञानिक विकास, मानविकी व छात्रों के कल्याण कार्यों को बढ़ावा देने वाले लोगों को प्रदान किया जाता है ।
  • डॉ0 अब्दुल कलाम के जन्म दिवस की 84 वीं वर्षगांठ के अवसर पर देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने DRDO भवन, नई दिल्ली में उनकी स्मृति में एक डाक टिकट भी जारी किया।
  • भारत सरकार ने Dr. Abdul Kalam के सम्मान में दिल्ली की औरंगजेब रोड का नाम बदलकर डॉ0 एपीजे अब्दुल कलाम मार्ग कर दिया है।

डॉ0 0पी0जे0 अब्दुल कलाम को श्रद्धांजलि – Tribute to APJ Abdul Kalam

दोस्तों, ए पी जे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय लेख में हम आपको बता रहे हैं कि डॉक्टर अब्दुल कलाम सही मायनों में सादा जीवन उच्च विचार की प्रतिमूर्ति थे, साथ ही वे स्वभाव से ही एक शिक्षक थे, अतः उनकी इच्छा थी कि उन्हें हमेशा एक शिक्षक के रूप में याद किया जाए ।  शायद उनकी इस इच्छा को पूरा करने के लिए प्रकृति ने उनकी मृत्यु के लिए ऐसा वक्त चुनाव जब वे एक शिक्षक के रूप में अपने छात्रों को व्याख्यान दे रहे थे।

यह भी पढ़ें : झूलन गोस्वामी का जीवन परिचय,Biography of Jhulan Goswami in Hindi

उनकी इच्छा थी कि उनकी मृत्यु पर कोई अवकाश ना घोषित किया जाए बल्कि लोग उस दिन भी काम करें, उनकी इसी इच्छा का सम्मान करने के लिए उनके निधन पर अवकाश घोषित नहीं किया गया । राजस्थान सरकार ने डॉ0 कलाम के जन्मदिवस को विद्यार्थी दिवस के रूप में घोषित किया है।

डॉक्टर अब्दुल कलाम जी भले ही आज हमारे बीच नहीं है परंतु उनका संघर्षशील व प्रेरणादायक व्यक्तित्व हमें हमेशा इस बात का स्मरण कराता रहेगा कि एक निर्धन तथा संघर्षों में पला व्यक्ति भी यदि अपनी जीवटता व दृढ़ निश्चय से अपने उद्देश्य की ओर बढ़े तो कोई भी मुश्किल या बाधा उसकी राह का रोड़ा नहीं बन सकती ।

वे हमेशा देश के युवाओं से कहते थे सपने हमेशा बड़े देखो, छोटे सपने देखना एक अपराध की तरह है, जिंदगी में सपने वही साकार होते हैं जो खुली आंखों से देखे जाते हैं ।

अपने सपनों को पूरा करने के लिए हमारे अंदर एक जुनून होना चाहिए, और हमें असफलता से कभी घबराना नहीं चाहिए, क्योंकि असफलता ही सफलता की दिशा में प्रथम प्रयास होता है।

>Ranbir Kapoor Biography In Hindi | रणबीर कपूर का जीवन परिचय

>पूर्व भारतीय महिला क्रिकेट कप्तान मिताली राज का जीवन परिचय | Mithali Raj Biography In Hindi

>Draupadi Murmu Biography In Hindi | राष्ट्रपति चुनाव 2022 की प्रत्याशी, द्रौपदी मुर्मू का जीवन परिचय

>Prithviraj Chauhan Biography in Hindi, History | पृथ्वीराज चौहान का जीवन परिचय, इतिहास  

यह भी पढ़ें : डॉ0 गगनदीप कांग की जीवनी,Dr. Gagandeep Kang Biography In Hindi

यह भी पढ़ें : Swami Vivekananda Biography in hindi | स्वामी विवेकानंद का जीवन परिचय, जीवनी

>Pradhanmantri Sangrahalaya in Hindi | प्रधानमंत्री संग्रहालय उद्घाटन 2022

>Biography of Virat Kohli in Hindi | विराट कोहली का जीवन परिचय

>Uttarakhand GK in hindi | उत्तराखंड सामान्य ज्ञान श्रृंखला भाग 1

FAQ

प्रश्न – अब्दुल कलाम का जन्म कब हुआ था कहां हुआ था ?

उत्तर- एपीजे अब्दुल कलाम 15 अक्टूबर 1931 को रामेश्वरम, तमिलनाडु के धनुषकोडी गांव में पैदा हुए थे।

प्रश्न – ए पी जे अब्दुल कलाम के माता-पिता का नाम क्या था?

उत्तर- एपीजे अब्दुल कलाम के पिता का नाम जैनुलाब्दीन था,। इनकी माता का नाम आशियम्मा था ।

प्रश्न – एपीजे अब्दुल कलाम का पूरा नाम क्या था ?

उत्तर- इनका पूरा नाम डॉ0 अबुल पाकिर जैनुलाब्दीन अब्दुल कलाम था ।

प्रश्न – कलाम जी ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई कहाँ से पूरी की ?

उत्तर- डॉ0 अब्दुल कलाम जी ने  दक्षिण के प्रसिद्ध मद्रास इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से  एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में शिक्षा ग्रहण की थी ।

प्रश्न – डॉ0 कलाम को मिसाइल मैन क्यों कहा जाता है ?

उत्तर- अब्दुल कलाम जी के बैलिस्टिक मिसाइलों व व्हीकल तकनीक के सफलतापूर्वक विकास हेतु इन्हे मिसाइल मैन की उपाधि प्रदान की गयी ।

प्रश्न – अब्दुल कलाम ने कौन सी मिसाइल बनाई थी ?

उत्तर- डॉ0 अब्दुल कलाम के सफल निर्देशन में 1988 में पृथ्वी तथा 1989 में अग्नि तथा त्रिशूल , आकाश , नाग व ब्रह्मोस जैसी मिसाइलों का सफल रुप से विकास किया गया ।

प्रश्न – अब्दुल कलाम की मृत्यु कब हुई ?

उत्तर- ए0पी0जे0 अब्दुल कलाम 27 जुलाई 2015 को एक कार्यक्रम के दौरान IIM शिलॉन्ग में जब व्याख्यान दे रहे थे तब उन्हें अचानक दिल का दौरा पड़ा।  उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाया गया जहाँ इलाज़ के दौरान उनकी मृत्यु हो गयी ।

तो दोस्तों, ऐसे थे डॉ0 कलाम ।  APJ Abdul Kalam Biography in Hindi | ए पी जे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय लेख के माध्यम से हमने आपको यही बताने का प्रयास किया है कि देश की युवा पीढ़ी यदि डॉ0 एपीजे अब्दुल कलाम के बताए रास्ते पर चलती है तो यही उनके लिए सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

प्रिय पाठकों, आपको ये प्रेरणादायक लेख (APJ Abdul Kalam Biography in Hindi | ए पी जे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय) कैसा लगा ? हमें पूर्ण विश्वास है कि डॉ0 अब्दुल कलाम का संपूर्ण जीवन परिचय व इतिहास आपको अवश्य पसंद आया होगा, इस लेख से संबंधित यदि आपके कोई प्रश्न है तो कमेंट बॉक्स में हमें अवश्य लिखिए ।  इस लेख को पूरा पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद !

अंत में – हमारे आर्टिकल पढ़ते रहिए, हमारा उत्साह बढ़ाते रहिए, खुश रहिए और मस्त रहिए।

ज़िंदगी अपनी शर्तों पर जियें ।

>> पढिए प्रकाश पर्व दिवाली के हर पहलू की विस्तृत जानकारी

>>पढ़िये शक्ति और शौर्य की उपासना के पर्व दशहरा/विजयदशमी की सम्पूर्ण जानकारी

>> समस्त मनोकामनाओं को पूर्ण करने वाले महत्वपूर्ण हिन्दू पर्व शारदीय नवरात्रि के बारे में जानिए सम्पूर्ण जानकारी

>>जानिए श्राद्ध पक्ष की पूजा विधि, इतिहास और महत्व की सम्पूर्ण जानकारी

>>जानें, क्या है मकर संक्रान्ति पर्व , क्यों मनाते हैं ? महत्व, पूजा विधि, स्नान– दान की सम्पूर्ण जानकारी

यह भी पढ़ें : गुरु गोबिन्द सिंह का जीवन परिचय | Guru Gobind Singh Biography | History In Hindi

यह भी पढ़ें : पेशावर कांड के नायक वीर चंद्र सिंह गढ़वाली की जीवनी | वीर चंद्र सिंह गढ़वाली का जीवन परिचय | Biography of Veer Chandra Singh Garhwali Hindi me

यह भी पढ़ें : नए साल पर निबंध 2022हिंदी Happy New Year Essay In Hindi 2022

यह भी पढ़ें : क्रिसमस डे 2021 पर निबंध हिंदी में | Essay on Christmas Day 2021 in Hindi

यह भी पढ़ें :जलियांवाला बाग हत्याकांड : निबंध | Jallianwala Bagh Massacre In Hindi : Essay

>Urfi Javed Biography in Hindi। उर्फी जावेद का जीवन परिचय

>> कौन हैं ऋषि सुनक ? Rishi Sunak Biography in Hindi

>>देश का गौरव भाला फेंक एथलीट, ओलंपिक 2021स्वर्ण पदक विजेता, नीरज चोपड़ा का जीवन परिचय

>>Raksha Bandhan Essay in Hindi | रक्षा बंधन पर निबंध । रक्षा बंधन 2022

>> देश की बेटी, गोल्डन गर्ल मीराबाई चानू के संघर्ष व उपलब्धियों की गाथा

>> लगातार दो बार ओलंपिक पदक विजेता पीवी सिंधु की जीवनी, कैरियर, रिकॉर्ड, संघर्ष, उपलब्धियां व नेटवर्थ के बारे में जानिए

>> गणेश चतुर्थी लेख में पढिए पर्व को मनाने का कारण, इतिहास, महत्व और गणपति के जन्म की अनसुनी कथाएं

>>पढ़िए शिक्षकों के सम्मान व स्वागत का दिन “शिक्षक दिवस” के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी, भाषण व निबंध

>>जानिए राष्ट्रभाषा हिन्दी के सम्मान एवं गौरव का दिन “हिन्दी दिवस” के बारे में विस्तृत जानकारी

देखिए विशिष्ट एवं रोचक जानकारी Audio/Visual के साथ sanjeevnihindi पर Google Web Stories में –

Shabaash Mithu : जानें मिताली राज की बायोपिक, नेटवर्थ व रेकॉर्ड्स

गुप्त नवरात्रि 2022 : इस दिन से हैं शुरू,जानें-घट स्थापना,तिथि,मुहूर्त

क्या आप जानते हैं? लग्जरी कारों का पूरा काफ़िला है विराट कोहली के पास

प्रधानमंत्री संग्रहालय : 10 आतिविशिष्ट बातें जो आपको जरूर जाननी चाहिए

शार्क टैंक इण्डिया : क्या आप जानते हैं, कितनी दौलत के मालिक हैं ये शार्क्स ?

हिटमैन रोहित शर्मा : नेटवर्थ, कैरियर, रिकॉर्ड, हिन्दी बायोग्राफी

चैत्र नवरात्रि 2022 : अगर आप भी रखते हैं व्रत तो जान लें ये 9 नियम

IPL 2022 : जानिए, रोहित शर्मा का IPL कैरियर, आग़ाज़ से आज़ तक

चैत्र नवरात्रि : ये हैं माँ दुर्गा के नौ स्वरूप

झूलन गोस्वामी : चकदाह से ‘चकदाह-एक्सप्रेस’ तक

शहीद-ए-आज़म भगत सिंह का क्रांतिकारी जीवन

2 नहीं 4 बार आते हैं साल में नवरात्रि

37 thoughts on “APJ Abdul Kalam Biography in Hindi | ए पी जे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय”

Leave a Comment

error: Content is protected !!