Tulsidas Biography in Hindi । Tulsidas ka Jeevan Parichay । तुलसीदास का जीवन परिचय, जीवनी

महान सन्त कवि तुलसीदास जी का नाम भी भारतीय जनमानस के हृदय पटल पर उसी श्रद्धा के साथ अंकित है जो श्रद्धा उनके द्वारा रचित श्रीरामचरितमानस के प्रति है। जब कभी भी रामचरितमानस का नाम लिया जाता है तो अनायास ही तुलसीदास जी का नाम भी जिह्वा पर आ जाता है, मानों यह दोनों एक दूसरे के पर्याय हों। तुलसीदास जी को रामायण महाकाव्य के रचयिता महर्षि बाल्मीकि का अवतार भी माना जाता है ।

महान ग्रंथ श्रीरामचरितमानस तो दुनिया के 100 सर्वश्रेष्ठ काव्यों में 46 वाँ स्थान प्राप्त है। इन सब के उपरांत यह आश्चर्यजनक है कि रामचरितमानस जैसे विश्व प्रसिद्ध ग्रंथ के सृजक एवं महान राम भक्त संत कवि गोस्वामी तुलसीदास के शुरुआती जीवन के संबंध में तथ्य पूर्ण जानकारी का नितांत अभाव रहा है।

दोस्तों ! आज हम आपको इस लेख Tulsidas Biography in Hindi । Tulsidas ka Jeevan Parichay । तुलसीदास का जीवन परिचय, जीवनी के माध्यम से महान संत कवि गोस्वामी तुलसीदास जी के जीवन परिचय के बारे में विस्तार से जानकारी देंगे।

यह जानकारी आपको परीक्षा में गोस्वामी तुलसीदास जी का जीवन परिचय, जीवनी लिखने के लिए समस्त महत्वपूर्ण जानकारियां उपलब्ध कराएगी। तो आइए जानते हैं तुलसीदास जी के बारे में सम्पूर्ण इतिहास ।

बिन्दु सूचना
पूरा नाम गोस्वामी तुलसीदास
बचपन का नाम रामबोला, तुलसीराम
जन्म की तारीख 1532 ईस्वी
जन्म का स्थान राजापुर, बांदा जिला ( चित्रकूट ) उत्तर प्रदेश / सोरों ,
कासगंज, उत्तर प्रदेश ( कुछ अन्य विद्वानों के अनुसार )
पिता का नाम पंडित आत्माराम शुक्ल दुबे
माता का नाम हुलसी
पत्नी का नाम रत्नावली
गुरु नरहरी दास
धर्म हिंदू
देहावसान 1623 अस्सीघाट ( वाराणसी )

तुलसीदास का जीवन परिचय, जीवनी, tulsidas biography in hindi, tulsidas information in hindi, tulsidas short biography in hindi

Topics Covered in This Page

Tulsidas Biography in Hindi । Tulsidas ka Jeevan Parichay । तुलसीदास का जीवन परिचय, जीवनी

तुलसीदास का जन्म तथा जन्म स्थान -Tulsidas Birth and Birth Place

महान संत कवि गोस्वामी तुलसीदास जी का जन्म 1532 ईसवी, संवत 1511 में श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को हुआ था। तुलसीदास जी के जन्म स्थान के संबंध में विद्वान एकमत नहीं है। कुछ विद्वानों के अनुसार तुलसीदास जी का जन्म स्थान सोरों , कासगंज, उत्तर प्रदेश है।

यह भी पढ़ें : पढ़ाने के खास अंदाज़  के लिए प्रसिद्ध, खान सर पटना का जीवन परिचय | Khan Sir Patna Biography

जबकि कुछ विद्वान इनका जन्म स्थान उत्तर प्रदेश के बांदा जिले ( चित्रकूट ) में स्थित राजापुर नामक स्थान को मानते हैं। वर्तमान में उत्तर प्रदेश सरकार ने इसी स्थान को आधिकारिक रूप से गोस्वामी तुलसीदास जी के जन्म स्थान के रूप में घोषित किया है।

तुलसीदास का परिवार – Tulsidas Family

तुलसीदास जी के दादाजी का नाम पंडित सच्चिदानंद शुक्ल था, वह एक भारद्वाज गोत्र के सनाढ्य ब्राह्मण थे। इनके दादा के 2 पुत्र हुए, पंडित आत्माराम शुक्ल तथा पंडित जीवाराम शुक्ल। पंडित आत्माराम शुक्ल दुबे तथा उनकी पत्नी हुलसी के पुत्र का नाम तुलसीदास हुआ।

इनके चचेरे भाई का नाम नंददास था। तथा नंद दास जी के पुत्र का नाम कृष्णदास था। बचपन में तुलसीदास जी का नाम रामबोला तथा तुलसीराम था।

Tulsidas Biography in Hindi
तुलसीदास
तुलसीदास का आरंभिक जीवन- Tulsidas Early Life

लोक मान्यताओं के अनुसार तुलसीदास 12 महीने तक मां के गर्भ में रहे इस कारण वे बहुत हृष्ट -पुष्ट थे और जन्म के समय ही उनके मुंह में दांत दिखाई दे रहे थे। कहा जाता है कि जन्म लेते ही तुलसीदास जी ने अपने मुख से राम के नाम का उच्चारण किया, इसी कारण उनका नाम राम बोला पड़ा।

यह भी पढ़ें : Lata Mangeshkar Biography in Hindi| स्वर-साम्राज्ञी-लता मंगेशकर का जीवन परिचय,जीवनी

तुलसीदास के जन्म के समय पंचांग के अनुसार मूल का समय था, और धार्मिक आस्था के अनुसार माना जाता है, ऐसे नक्षत्र में जन्म लेने वाले बच्चे के पिता के जीवन को खतरा होता है। इनका जन्म होते ही अगले दिन इनकी माता का स्वर्गवास हो गया अतः परिवार के सब लोग इन्हें अशुभ मानने लगे ।

और इसी कारण से इनके पिता ने इनका त्याग कर दिया और इन्हें चुनिया नाम की एक दासी को दे दिया। जब रामबोला की उम्र लगभग 5 वर्ष की हुई तो इनकी धाय मां चुनिया भी स्वर्ग सिधार गई। उसके बाद रामबोला अनाथों की तरह इधर-उधर भटकते हुए भिक्षा मांग कर जीवन -यापन करते हुए एक हनुमान मंदिर में रहने लगे।

तुलसीदास की शिक्षा-दीक्षा एवं उनके गुरु- Tulsidas Education and Teacher

उन्हीं दिनों अनंतानन्द जी के प्रिय शिष्य श्री नरहरी शास्त्री ( नरहर्यानन्द जी ) जिन्हें रामानंद जी का चौथा शिष्य माना जाता है, की दृष्टि तुलसीदास पर पड़ी उन्होंने तुलसीदास के भीतर छिपी अलौकिक प्रतिभाओं को पहचान लिया और इन्हें अपने साथ अयोध्या ले गए।

यह भी पढ़ें : भारतीय क्रिकेट के हिटमैन रोहित शर्मा का जीवन परिचय, जीवनी । Rohit Sharma Biography in Hindi

वहां उन्होंने तुलसीदास का यज्ञोपवीत संस्कार कराया तथा इनका शिक्षण कार्य प्रारंभ कर दिया। संस्कार के समय बालक रामबोला ने बिना सीखे ही गायत्री मंत्र का स्पष्ट उच्चारण कर दिया , यह देख सभी आश्चर्यचकित रह गए ।

यहीं तुलसीदास जी ने सन्यासी वेश धारण करते हुए बैरागी की दीक्षा ली । माना जाता है कि यहीं उन्हें तुलसीदास का नाम मिला। तुलसीदास की उम्र 7 वर्ष होने पर उनके गुरु नरहरी दास जी ने उनका उपनयन कर्म किया।

उनके गुरु उन्हें कुछ समय बाद वराह क्षेत्र ले गए जहां पहली बार नरहरी दास जी ने उन्हें रामायण सुनाई , तत्पश्चात अक्सर वे रामायण सुनते थे अतः धीरे-धीरे उन्हें यह समझ में आने लगी।

कालांतर में तुलसीदास जी ने काशी नगरी में हिंदू दर्शन स्कूल में गुरु शेष सनातन जी के साथ रहकर 15 वर्षों तक उनसे संस्कृत व्याकरण,वेद और पुराणों का अध्ययन किया तथा ज्योतिष की शिक्षा ग्रहण की।

यह भी पढ़ें : Republic day essay in hindi,गणतंत्र दिवस पर निबंध 2022

शेष सनातन जी इनके गुरु नरहरी दास के सखा थे तथा साहित्य और दर्शनशास्त्र के प्रकंड विद्वान थे । शिक्षा पूर्ण करने के बाद तुलसीदास जी अपने जन्म स्थान ( राजापुर ) वापस चले गए।

अपने घर पहुंच कर उन्हें ज्ञात हुआ कि उनके माता-पिता का देहावसान हो गया है अतः अपने माता-पिता का श्राद्ध करके वे अपने पैतृक घर में ही रहने लगे और चित्रकूट में लोगों को रामायण की कथा सुनाया करते।

ये अपने गुरु नरहरी जी से बाल्यावस्था में ही राम कथा सुन चुके थे अतः अब तक राम भक्ति की भावना और वैराग्य संस्कार उनके भीतर जागृत होने लगे थे परंतु फिर भी तुलसीदास जी ने बहुत अल्पावधि के लिए गृहस्थ आश्रम में प्रवेश किया।

>Kabir Das Ka Jivan Parichay । कबीर दास का जीवन परिचय । Kabir Das Biography In Hindi   

>जानिए महान भक्त कवि सूरदास जी के जीवन व रचनाओं के बारे में सविस्तार जानकारी, surdas-ka-jivan-parichay  

तुलसीदास का वैवाहिक जीवन-Tulsidas Married Life

तुलसीदास के विवाह के बारे में कुछ लोगों की मान्यता है कि वे बचपन से ही हनुमान भक्त थे , इस धारणा के आधार पर ऐसा माना जाता है कि शायद उन्होंने कभी विवाह किया ही नहीं। परन्तु अन्य विद्वानों के अनुसार महान संत कवि तुलसीदास जी का विवाह रत्नावली ( बुद्धिमती ) से सन् 1583 में जयेष्ठ माह की पुण्यतिथि में 29 वर्ष की आयु में हुआ था।

यह भी पढ़ें : झूलन गोस्वामी का जीवन परिचय,Biography of Jhulan Goswami in Hindi

रत्नावली के पिता का नाम दीनबंधु पाठक था यह एक भारद्वाज ब्राह्मण थी। तुलसीदास जी और रत्नावली के एक पुत्र का जन्म हुआ जिसका नाम तारक था, कहा जाता है कि अल्पायु में ही उसकी मृत्यु हो गई।

कहा जाता है कि तुलसीदास जी अपनी पत्नी रत्नावली से इतना प्रेम करते थे कि वे उनके बिना नहीं रह पाते थे। एक किवदंती के अनुसार एक बार जब उनकी पत्नी रत्नावली अपने भाई के साथ मायके गई हुई थी। और तुलसी अपनी पत्नी के बिरह – वियोग में स्वयं को रोक ना पाए और घनघोर बारिश में रात्रि के समय उफनती नदी को पार करके विपरीत परिस्थितियों में रत्नावली से मिलने अपनी ससुराल पहुंच गए।

यह भी पढ़ें : डॉ0 गगनदीप कांग की जीवनी,Dr. Gagandeep Kang Biography In Hindi

तुलसीदास के इस कृत्य पर रत्नावली ने ग्लानि एवं क्रोध में उनसे कहा – ” मेरी हाड़ -मांस की देह के बजाय भगवान राम से ऐसी प्रीति क्यों नहीं करते ?” यह बात तुलसीदास के हृदय में चुभ गई और उन्होंने समस्त पारिवारिक व सांसारिक सुख-ऐश्वर्य त्याग दिया और राम नाम का भजन करते हुए तीर्थाटन पर निकल पड़े।

तुलसीदास एक सन्यासी के रूप में – Tulsidas As a Monk

लगभग 14 वर्षों तक तुलसीदास संपूर्ण भारत में अलग-अलग तीर्थों का भ्रमण करते हुए भगवान राम की खोज में भटकते रहे और उन्होंने स्वयं को पूर्णरूपेण आध्यात्मिकता में लगा दिया। इस दौरान उन्होंने अनेक साधु-संतों से शिक्षा ग्रहण की तथा अलग-अलग स्थानों पर लोगों को भी शिक्षा दी। वे अपने तीर्थाटन के दौरान वाराणसी, प्रयाग, अयोध्या चित्रकूट में रहे और इसी स्थान पर इन्हें भगवान राम के दर्शन हुए और तभी से इन्हें रामायण की रचना करने की प्रेरणा मिली।

तुलसीदास की राम भक्ति तथा राम व हनुमान दर्शन – Ram Bhakti and Ram, Hanuman Darshan

तुलसीदास राम के अनन्य भक्तों में से एक थे , राम के प्रति उनकी अगाध आस्था थी और उन्हें हमेशा विश्वास था कि एक दिन प्रभु राम स्वयं उन्हें दर्शन देंगे, और ऐसा हुआ भी उन्होंने अपनी रचना “भक्तिरस बोधिनी” में इस बात का वर्णन विस्तार पूर्वक किया है ।

यह भी पढ़ें : Makar Sankranti : जानें, क्या है मकर संक्रान्ति पर्व , क्यों मनाते हैं ? महत्व, 2022 में तिथि व मुहूर्त, पूजा विधि , स्नान – दान की सम्पूर्ण जानकारी | What is Makar Sankranti?2022 In Hindi, Why We Celebrate Makar Sankranti? Importance, Date And Time In 2022, Pooja Vidhi,Snan-Dan

उन्हे सर्वप्रथम प्रभु हनुमान के दर्शन वाराणसी में हुए थे उसी स्थान पर वर्तमान में संकट मोचन मंदिर है। ऐसी मान्यता है कि प्रभु हनुमान ने ही श्रीरामचरितमानस के लेखन कार्य में तुलसीदास जी की सहायता की थी। तुलसीदास जी ने उस समय हनुमान जी के समक्ष प्रभु श्रीराम के दर्शनों की अभिलाषा प्रकट की, तब हनुमान जी ने तुलसीदास जी को राम जी के दर्शन हेतु चित्रकूट प्रस्थान करने की सलाह दी।

तत्पश्चात तुलसीदास जी चित्रकूट में रामघाट नामक स्थान पर रहने लगे थे। तुलसीदास जी ने स्वयं “विनयपत्रिका” में इस वृतांत का वर्णन किया है कि किस प्रकार श्री राम द्वारा दो बार उन्हें दर्शन देने के उपरांत भी वे उन्हें ना पहचान सके। परंतु तीसरी बार बाल रूप में जब स्वयं श्री राम जी ने उन्हें दर्शन दिए तब हनुमान जी के संकेत पर तुलसीदास जी उन्हें पहचान गए।

यह भी पढ़ें : गुरु गोबिन्द सिंह का जीवन परिचय | Guru Gobind Singh Biography | History In Hindi

तुलसीदास जी अपने ज्ञान व भक्ति के बल पर सामान्य मनुष्य से परे असामान्य शक्तियों के स्वामी थे, अपने ज्ञान व सूझ -बूझ से उन्होंने अनेक लोगों को स्वास्थ्य लाभ प्रदान किया और उनका जीवन बचाया। तुलसीदास जी मुगल शासक अकबर के समकालीन थे, बादशाह अकबर तुलसीदास जी के ज्ञान व मानवता के लिए समर्पण की भावना के कारण उन्हें सम्मान देते थे और एक मित्रवत् व्यवहार करते थे।

तुलसीदास जी का देहावसान- Tulsidas Death

देश के कई तीर्थों का भ्रमण करने के बाद भी तुलसीदास जी ने अपने जीवन का अंतिम समय काशी में गुजारा था। तुलसीदास जी की मृत्यु के समय को लेकर भी विद्वानों में मतभेद रहा है, अलग-अलग विद्वान इनकी मृत्यु का समय अलग-अलग बताते हैं, फिर भी विद्वानों द्वारा सर्वाधिक मान्यता दिए जाने वाले समय के अनुसार महान भक्त, कवि व ज्ञानी तुलसीदास जी की मृत्यु सन 1623 , विक्रम संवत 1680 में श्रावण मास में वाराणसी के अस्सीघाट पर हुई थी।

>>Ranbir Kapoor Biography In Hindi | रणबीर कपूर का जीवन परिचय

काशी में वह स्थान अब तुलसीघाट के नाम से जाना जाता है। यहां तुलसीदास जी के द्वारा स्थापित हनुमान जी की प्रतिमा आज भी स्थित है। काशी का सुप्रसिद्ध “संकट मोचन मंदिर” भी तुलसीदास जी द्वारा स्थापित किया गया माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि अपनी मृत्यु से पूर्व तुलसीदास जी ने अपनी अंतिम रचना विनय पत्रिका लिखी ,और उस पर स्वयं श्री राम जी ने हस्ताक्षर किये थे । गोस्वामी तुलसीदास जी का नाम देश और दुनिया में हमेशा अमर रहेगा।

तुलसीदास की रचनाएं – Tulsidas ki Rachnaye

ऐसा माना जाता है कि अपने जीवन काल में तुलसीदास जी ने सर्वप्रथम संस्कृत में काव्य रचना प्रारंभ की, परंतु जनसामान्य को संस्कृत भाषा का ज्ञान कम होने के कारण वे अवधि भाषा में अपनी रचनाएं लिखने लगे जो कि उत्तर भारत के जनसाधारण की भाषा है । तुलसीदास जी ने 39 ग्रंथों की रचना की, परंतु उनमें से 12 ग्रंथ , जो सर्वाधिक प्रसिद्ध है, को विद्वान निश्चित तौर पर इनके द्वारा रचित मानते हैं, यह 12 ग्रंथ निम्नलिखित है –

यह भी पढ़ें : नए साल पर निबंध 2022हिंदी Happy New Year Essay In Hindi 2022

अवधी भाषा में रचित ग्रंथ – Books in Avadhi Language

श्रीरामचरितमानस – ShreeRamcharitmanas

श्रीरामचरितमानस को तुलसीदास जी की प्रतिनिधि रचना माना जाता है। तुलसीदास जी ने श्री रामचरितमानस की रचना 1631 में अयोध्या में शुरू की थी। इस ग्रंथ में लिखा जाने वाला किष्किंधा कांड का लेखन कार्य काशी में जाकर पूर्ण हुआ।

तुलसीदास जी के समय देश में मुगल शासक अकबर का साम्राज्य था , तब श्रीरामचरितमानस ने लोगों में नए जीवन का संचार किया। प्रत्येक अमीर – गरीब हिंदू के घर में प्रतिष्ठित होने वाला यह ग्रंथ सात कांडों में विभाजित है जिन्हें क्रमश: बालकांड, अयोध्या कांड, अरण्य कांड, किष्किंधा कांड, सुंदर कांड, लंका कांड एवं उत्तर कांड कहां जाता है ।

यह भी पढ़ें : क्रिसमस डे 2021 पर निबंध हिंदी में | Essay on Christmas Day 2021 in Hindi

श्रीरामचरितमानस के अतिरिक्त तुलसीदास जी द्वारा अवधी भाषा में रचित अन्य ग्रंथ निम्नलिखित हैं –

रामलला नहछू

पार्वती मंगल

बरवै रामायण

रामाज्ञा प्रश्न

जानकी मंगल

ब्रज भाषा में रचित ग्रंथ –

विनय पत्रिका

कृष्ण गीतावली

दोहावली

गीतावली

साहित्य रत्न

संदीपनि

यह भी पढ़ें : पेशावर कांड के नायक वीर चंद्र सिंह गढ़वाली की जीवनी | वीर चंद्र सिंह गढ़वाली का जीवन परिचय | Biography of Veer Chandra Singh Garhwali Hindi me

उपरोक्त प्रमुख 12 ग्रंथों के अतिरिक्त तुलसीदास जी के द्वारा रचित कुछ अन्य विशिष्ट रचनाएं निम्नलिखित हैं –

हनुमान बाहुक

हनुमान अष्टक

तुलसी सतसई

हनुमान चालीसा

तुलसीदास जयंती 2022 Tulsidas Jayanti 2022 Date

गोस्वामी तुलसीदास जी का जन्म श्रावण माह में शुक्ल पक्ष की सप्तमी के दिन माना जाता है अतः इसी दिवस को तुलसीदास जयंती के रूप में मनाया जाता है। 2022 में तुलसीदास जयंती 4 अगस्त दिन बृहस्पतिवार को मनाई जाएगी। 2022 में तुलसीदास जी की 522 वीं जन्मतिथि है।

यह भी पढ़ें : APJ Abdul Kalam Biography in Hindi | ए पी जे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय

तुलसीदास जयंती कैसे मनाते हैं – Tulsidas Jayanti Celebration

तुलसीदास जयंती के अवसर पर स्कूलों में विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। इन कार्यक्रमों में मुख्य रूप से निबंध या दोहे लिखने की प्रतियोगिताएं, डिबेट, दोहे गाने वाली अंताक्षरी आदि प्रोग्राम होते हैं। मंदिरों में पूजा अर्चना, रामायण पाठ आदि कार्यक्रम होते हैं तथा लोग ब्राह्मणों को भोज भी कराते हैं।

तुलसीदास के दोहे व हिन्दी अर्थ – Tulsidas ke Dohe With Hindi Meaning

Tulsidas Dohe in Hindi –

“तुलसी मीठे वचन ते सुख उपजत चहूँ ओर।
वसीकरन इक मंत्र है परीहरू बचन कठोर ।।”

-तुलसीदास

भावार्थ – गोस्वामी तुलसीदास जी कहते हैं कि मीठे वचनों से सब ओर सुख फैलता है। मीठे वचन किसी को भी बस में करने का एक मंत्र है। अतः मनुष्य को कठोर वचन ना बोलकर मीठे वचन बोलने चाहिए ।

“नामु राम को कलपतरु कलि कल्यान निवासु ।
जो सिमरत भयो भांग ते तुलसी तुलसीदास।।”

-तुलसीदास

भावार्थ तुलसीदास जी कहते हैं कि राम का नाम कल्पवृक्ष ( इच्छित फल देने वाला वृक्ष ) और कल्याण का निवास है जिसको याद करने से भांग जैसा ( खराब ) तुलसीदास भी तुलसी की भांति पवित्र हो जाता है।

>Bhagat Singh Biography In Hindi, भगत सिंह का जीवन परिचय, Biography Of Bhagat Singh In Hindi

>Swami Vivekananda Biography in hindi | स्वामी विवेकानंद का जीवन परिचय, जीवनी

Tulsidas Dohe in Hindi –

“दया धर्म का मूल है पाप मूल अभिमान ।
तुलसी दया न छांडिये , जब लग घट में प्राण ।।”

-तुलसीदास

भावार्थ तुलसीदास जी कहते हैं मनुष्य को कभी भी दया नहीं छोड़नी चाहिए, क्योंकि दया ही धर्म का मूल है। जबकि मनुष्य का अहंकार सभी पापों का मूल है।

“सूर समर करनी करहिं कहि न जनावहिं आपु ।
विद्यमान रन पाइ रिपु कायर कथहिं प्रतापु।।”

-तुलसीदास

भावार्थ तुलसीदास जी कहते हैं कि योद्धा अर्थात शूरवीर युद्ध क्षेत्र में अपना परिचय अपने कर्मों के द्वारा अर्थात् युद्ध कौशल से देते हैं । उन्हें स्वयं के बारे में प्रशंसा करने की आवश्यकता नहीं होती, तथा जो अपनी प्रतिभाओं का बखान स्वयं अपने मुंह से करते हैं वह कायर होते हैं।

“काम क्रोध मद लोभ की जौ लौं मन में खान ।
तौ लौं पंडित मूरखौं तुलसी एक समान।।”

-तुलसीदास

भावार्थ तुलसीदास जी इस दोहे के माध्यम से यह कहना चाहते हैं कि क्रोध , लोभ ,मोह , तथा काम मनुष्य के अंदर पैदा होने वाले ऐसे भाव हैं जिनके होने पर किसी बुद्धिमान और मूर्ख व्यक्ति में कोई अंतर नहीं रह जाता । वास्तव में ये नकारात्मक भाव मनुष्य के दिमाग पर गूढ़ प्रभाव डालते हैं और मनुष्य का विवेक छीन लेते हैं अतः व्यक्ति को इन नकरात्मक भावों से स्वयं को दूर रखना चाहिए ।

>>   देश की बेटी, गोल्डन गर्ल मीराबाई चानू के संघर्ष व उपलब्धियों की गाथा              

>>   लगातार दो बार ओलंपिक पदक विजेता पीवी सिंधु की जीवनी, कैरियर, रिकॉर्ड, संघर्ष, उपलब्धियां व नेटवर्थ के बारे में जानिए

>>Raksha Bandhan Essay in Hindi | रक्षा बंधन पर निबंध । रक्षा बंधन 2022

>>देश का गौरव भाला फेंक एथलीट, ओलंपिक 2021स्वर्ण पदक विजेता, नीरज चोपड़ा का जीवन परिचय

>> कौन हैं ऋषि सुनक ? Rishi Sunak Biography in Hindi

>Draupadi Murmu Biography In Hindi | राष्ट्रपति चुनाव 2022 की प्रत्याशी, द्रौपदी मुर्मू का जीवन परिचय

>Prithviraj Chauhan Biography in Hindi, History | पृथ्वीराज चौहान का जीवन परिचय, इतिहास  

>Uttarakhand GK in hindi | उत्तराखंड सामान्य ज्ञान श्रृंखला भाग 1

FAQ

प्रश्न – तुलसीदास जी का जन्म कब हुआ था ?

उत्तर – गोस्वामी तुलसीदास जी का जन्म 1532 ईसवी, संवत 1511 में श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को हुआ था।

प्रश्न – गोस्वामी तुलसीदास जी का जन्म कहाँ हुआ था ?

उत्तर – तुलसीदास जी के जन्म स्थान के संबंध में विद्वान एकमत नहीं है। कुछ विद्वानों के अनुसार तुलसीदास जी का जन्म स्थान सोरों , कासगंज, उत्तर प्रदेश है, जबकि कुछ विद्वान इनका जन्म स्थान उत्तर प्रदेश के बांदा जिले ( चित्रकूट ) में स्थित राजापुर नामक स्थान को मानते हैं।

प्रश्न – तुलसीदास जी का बचपन का क्या नाम था ?

उत्तर – तुलसीदास जी का बचपन का नाम रामबोला था ।

प्रश्न – तुलसीदास जी के गुरु का क्या नाम था ?

उत्तर – तुलसीदास जी के गुरु का नाम श्री नरहरी शास्त्री ( नरहर्यानन्द जी ) था ।

प्रश्न – तुलसीदास जी के माता पिता का नाम क्या था?

उत्तर – तुलसीदास जी के पिता का नाम पं0 आत्माराम शुक्ल दुबे तथा माता का नाम हुलसी था ।

प्रश्न – तुलसीदास जी की धर्मपत्नी का क्या नाम था ?

उत्तर – तुलसीदास जी की धर्मपत्नी का नाम रत्नावली था ?

प्रश्न – तुलसीदास जी की मृत्यु कब और कहाँ हुई थी ?

उत्तर – तुलसीदास जी की मृत्यु सन 1623 , विक्रम संवत 1680 में श्रावण मास में वाराणसी के अस्सीघाट पर हुई थी।

प्रश्न – तुलसीदास जी की सर्वश्रेष्ठ रचना का क्या नाम है ?

उत्तर – तुलसीदास जी की सर्वश्रेष्ठ रचना का नाम श्रीरामचरितमानस है ?

प्रश्न – तुलसीदास की अंतिम रचना कौन सी है?

उत्तर – तुलसीदास की अंतिम रचना का नाम विनयपत्रिका है।

प्रश्न – तुलसीदास का विवाह कब हुआ ?

उत्तर – इनका विवाह सन् 1583 में जयेष्ठ माह की पुण्यतिथि में 29 वर्ष की आयु में हुआ था।

प्रश्न – श्री रामचरित मानस में कितने कांड है?

उत्तर – श्री रामचरित मानस में आठ कांड है।

यह भी पढ़ें : शार्क टैंक इण्डिया : क्या है ?। About Shark Tank India 2022। Shark Tank India Registration | Shark Tank India Kya Hai

प्रिय पाठकों ! Tulsidas Biography in Hindi । Tulsidas ka Jeevan Parichay । तुलसीदास का जीवन परिचय, जीवनी लेख के माध्यम से गोस्वामी तुलसीदास जी के बारे में उनके जीवन परिचय से जुड़ी वृहत जानकारी आपको कैसी लगी ?

यदि आप ऐसे ही अन्य महापुरुषों से जुड़े उनके जीवन वृतांत के बारे में पढ़ना पसंद करते हैं तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमें अवश्य लिखें, हम आपके द्वारा सुझाए गए टॉपिक पर लिखने का अवश्य प्रयास करेंगे । दोस्तों, अपने कमेंट लिखकर हमारा उत्साह बढ़ाते रहें।

>> पढिए प्रकाश पर्व दिवाली के हर पहलू की विस्तृत जानकारी

यह भी पढ़ें : Holi Essay In Hindi 2022, History, Significance |  होली पर निबंध 2022, इतिहास, महत्व

यह भी पढ़ें 5 Best Poems Collection | कविता-संग्रह | “जीवन-सार”

यह भी पढ़ें Navratri Essay in Hindi,नवरात्रि पर निबंध,Chaitra Navratri 2022

यह भी पढ़ें :प्रेमचन्द का जीवन परिचय | Biography Of Premchand In Hindi| PremChand Ka Jivan Parichay

यह भी पढ़ें :जलियांवाला बाग हत्याकांड : निबंध | Jallianwala Bagh Massacre In Hindi : Essay

>Pradhanmantri Sangrahalaya in Hindi | प्रधानमंत्री संग्रहालय उद्घाटन 2022

>Biography of Virat Kohli in Hindi | विराट कोहली का जीवन परिचय

>Urfi Javed Biography in Hindi। उर्फी जावेद का जीवन परिचय

>पूर्व भारतीय महिला क्रिकेट कप्तान मिताली राज का जीवन परिचय | Mithali Raj Biography In Hindi

अंत में – हमारे आर्टिकल पढ़ते रहिए, हमारा हौसला बढ़ाते रहिए, खुश रहिए और मस्त रहिए।

जीवन को अपनी शर्तों पर जियें ।

>>पढ़िये शक्ति और शौर्य की उपासना के पर्व दशहरा/विजयदशमी की सम्पूर्ण जानकारी

>> समस्त मनोकामनाओं को पूर्ण करने वाले महत्वपूर्ण हिन्दू पर्व शारदीय नवरात्रि के बारे में जानिए सम्पूर्ण जानकारी

>>जानिए श्राद्ध पक्ष की पूजा विधि, इतिहास और महत्व की सम्पूर्ण जानकारी

>> गणेश चतुर्थी लेख में पढिए पर्व को मनाने का कारण, इतिहास, महत्व और गणपति के जन्म की अनसुनी कथाएं

>>पढ़िए शिक्षकों के सम्मान व स्वागत का दिन “शिक्षक दिवस” के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी, भाषण व निबंध

>>जानिए राष्ट्रभाषा हिन्दी के सम्मान एवं गौरव का दिन “हिन्दी दिवस” के बारे में विस्तृत जानकारी

देखिए विशिष्ट एवं रोचक जानकारी Audio/Visual के साथ sanjeevnihindi पर Google Web Stories में –

Shabaash Mithu : जानें मिताली राज की बायोपिक, नेटवर्थ व रेकॉर्ड्स

गुप्त नवरात्रि 2022 : इस दिन से हैं शुरू,जानें-घट स्थापना,तिथि,मुहूर्त

क्या आप जानते हैं? लग्जरी कारों का पूरा काफ़िला है विराट कोहली के पास

प्रधानमंत्री संग्रहालय : 10 आतिविशिष्ट बातें जो आपको जरूर जाननी चाहिए

शार्क टैंक इण्डिया : क्या आप जानते हैं, कितनी दौलत के मालिक हैं ये शार्क्स ?

हिटमैन रोहित शर्मा : नेटवर्थ, कैरियर, रिकॉर्ड, हिन्दी बायोग्राफी

चैत्र नवरात्रि 2022 : अगर आप भी रखते हैं व्रत तो जान लें ये 9 नियम

IPL 2022 : जानिए, रोहित शर्मा का IPL कैरियर, आग़ाज़ से आज़ तक

चैत्र नवरात्रि : ये हैं माँ दुर्गा के नौ स्वरूप

झूलन गोस्वामी : चकदाह से ‘चकदाह-एक्सप्रेस’ तक

शहीद-ए-आज़म भगत सिंह का क्रांतिकारी जीवन

2 नहीं 4 बार आते हैं साल में नवरात्रि

42 thoughts on “Tulsidas Biography in Hindi । Tulsidas ka Jeevan Parichay । तुलसीदास का जीवन परिचय, जीवनी”

Leave a Comment

error: Content is protected !!