Essay on Bhai Dooj | भाई दूज पर निबंध | भाई दूज कब है 2022

भाई-बहन के अगाध प्रेम को प्रदर्शित करने वाला पर्व भाई-दूज भाई-बहन के परस्पर प्रेम व स्नेह को दर्शाता है । रक्षा बंधन के बाद यह दूसरा बड़ा पर्व है जो भाई-बहन के पवित्र रिश्ते को समर्पित है । इस त्यौहार को ‘यम द्वितीया’ के नाम से भी जाना जाता है, ये दशहरा के लगभग 22 दिन और दीपावली के 2 दिन बाद आता है। भारत में इस पर्व को बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है।

हिन्दू पंचांग के अनुसार यह त्यौहार कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष द्वितीया को मनाया जाता है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह पर्व अक्टूबर या नवंबर में मनाया जाता है।

तो आइए दोस्तों, हम इस लेख Essay on Bhai Dooj | भाई दूज पर निबंध | भाई दूज कब है 2022 में आपको Essay on Bhai Dooj के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी देते हैं। आप इस निबंध को पढ़कर भाई दूज पर निबंध लिखना सीख सकेंगे। ये निबंध कक्षा 5,6,7,8,9,10,11,12 के छात्रों के लिए बहुत उपयोगी साबित होगा। आप से गुजारिश है कि इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें। तो आइए शुरू करते हैं Essay on Bhai Dooj

Topics Covered in This Page

Essay on Bhai Dooj | भाई दूज पर निबंध | भाई दूज कब है 2022

बिन्दु जानकारी
पर्व का नाम भाई दूज
अन्य नाम यम द्वितीया, भैय्या दूज, दोज, भाई टीका, भ्रातृ द्वितीया
मनाने वाले लोगहिन्दू, प्रवासी हिन्दू
पर्व को मनाने का उद्देश्य बहन द्वारा भाई के स्वस्थ जीवन एवं दीर्घायु की कामना
पर्व मनाने की तिथिकार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि
समान त्यौहाररक्षा बंधन
होम पेज यहाँ क्लिक करें

भाई दूज 2022, महत्व, भाई दूज पर निबंध, मुहूर्त, कथा, भाई दूज कब है, क्यूँ मनाते है, भाई दूज कब है 2022, भाई दूज की कहानी, भैया दूज की कहानी, भाई दूज पर्व पर 10 लाइन

bhai dooj 2022, bhai dooj 2022 date, Bhai Dooj significance, essay on bhai dooj in hindi, Katha, History, essay on bhai dooj, bhai dooj essay in hindi, bhai dooj festival, when is bhai dooj in 2022, 10 Lines on Bhai Dooj Festival

प्रस्तावना –

सदियों से भाई-बहन के प्रेम ने शेष सभी रिश्तों से ऊपर अपना अलग महत्वपूर्ण स्थान बना रखा है। हिंदू धर्म में इस पवित्र रिश्ते को समर्पित दो महत्वपूर्ण त्योहार मनाए जाते हैं। रक्षाबंधन और भाई दूज। भाई दूज का पर्व भी रक्षाबंधन की तरह बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। इस दिन बहनें अपने भाई का तिलक कर स्वादिष्ट भोजन कराती है, तथा भाई भी उन्हें उपहार देते हैं ।

Essay on Bhai Dooj
Happy Bhai Dooj

2022 में भैय्या दूज कब है – 2022 mein bhaiya Dooj Kab Hai

2022 में दीपावली पर्व 24 अक्टूबर को मनाया जाएगा। 25 अक्टूबर को गोवर्धन पूजा होगी और इस तरह 26 अक्टूबर को भाई दूज का त्यौहार होगा। यहाँ आपको बताते चलें कि इस वर्ष गोवर्धन पूजा पर्व के दिन सूर्य ग्रहण भी है।

>> पति-पत्नी के प्रेम, विश्वास और समर्पण का त्यौहार करवा चौथ की सम्पूर्ण जानकारी

इस बार भाई दूज के पर्व की तिथि को लेकर असमंजस की स्थिति है, यह त्यौहार 26 व 27 अक्टूबर दोनों दिन मनाया जा रहा है, परंतु 26 अक्टूबर, बुद्धवार की तिथि ही श्रेष्ठ है।

भाई दूज 2022 शुभ मुहूर्त – Bhai Dooj Muhurt

तिथि/त्यौहारतारीखमुहूर्त/समय
कार्तिक शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि प्रारंभ26 अक्टूबर 2022 दोपहर 2:42 से
कार्तिक शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि समाप्त27 अक्टूबर 2022 दोपहर 12:45 पर
भाई दूज टीका मुहूर्त26 अक्टूबर 2022 दोपहर 01:12 से 03:27 तक

भाई दूज कैसे मनाते हैं ?, विधि – How Bhai Dooj is Celebrated ?

भाई दूज पर्व को यम-द्वितीया भी कहा जाता है । भाई दूज का पर्व भाई बहन के प्रेम और स्नेह से परिपूर्ण पवित्र रिश्ते को समर्पित एक और भारतीय त्योहार है। भाई बहन के प्रेम को प्रदर्शित करने वाला यह त्योहार लगभग रक्षाबंधन जैसा ही त्योहार है।

इस दिन भाई अपनी बहनों के घर जाते हैं, बहनें भाई के माथे पर मंगल टीका लगाकर उन्हें गोला ( सूखा नारियल) और मिठाई देती है, तथा उनके अच्छे स्वास्थ्य और लंबी उम्र की कामना करती हैं । भाई भी अपनी बहनों को उपहार और शगुन ( रुपये ) देते हैं।

>> पढ़िए प्रकाश पर्व दीपावली से जुड़ी हर महत्वपूर्ण जानकारी

भाई दूज की पूजा व विधि-विधान – Bhai Dooj Puja Vidhi

भाई दूज के त्यौहार पर ऐपण का बहुत अधिक महत्व माना जाता है। इस दिन बहनें प्रातः नहाकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर ऐपण तैयार करती हैं, जिनमें मुख्य रूप से सात बहन और एक भाई का ऐपण तैयार किया जाता है जो संकेत के रूप में होते हैं।

उसी में कुछ सांप बिच्छू जैसी आकृतियां बनाई जाती हैं जो भाई के जीवन में विपत्तियों का प्रतीक होती हैं। उन्हें मुसल से प्रहार करते हुए समाप्त कर दिया जाता है जो इस बात का द्योतक माना जाता है कि भाई के जीवन में आने वाले संकटों को समाप्त कर दिया है, साथ ही बहनें भाई की दीर्घायु और स्वस्थ जीवन की ईश्वर से प्रार्थना करती हैं। फिर बहनें भाई के तिलक लगाकर मीठा और गोला ( सूखा नारियल) देती हैं। और फिर स्वयं भोजन करती हैं।

भाई दूज का महत्व – Significance of Bhai Dooj

भाई दूज पर्व का हिंदू धर्म में बहुत महत्व है, यह पर्व भाई बहन के प्रेम का पर्व है। इस पर्व से भाई के जीवन और स्वास्थ्य के प्रति बहन की चिंता, और बहन की सुरक्षा के प्रति भाई के दायित्व के भावों का पता चलता है।

यह त्यौहार हर वर्ष मनाने से भाई बहन के प्रेम की प्रगाढ़ता और बढ़ जाती है। पुरानी कथाओं के अनुसार भी भाई बहन के प्रेम को प्रदर्शित करने वाला यह अनोखा पर्व बहुत महत्वपूर्ण है। ऐसी मान्यता है कि यदि इस दिन भाई-बहन यमुना नदी में स्नान करके यमराज की पूजा करते हैं तो उन्हें यम ( मृत्यु ) का भय समाप्त हो जाता है। ऐसा भी कहा जाता है यदि इस दिन यमुना नदी में स्नान किया हो और ऐसे व्यक्ति को सर्प काट ले तो उस पर विष का कोई असर नहीं होता।

>>पढ़िये शक्ति और शौर्य की उपासना के पर्व दशहरा/विजयदशमी की सम्पूर्ण जानकारी

भाई दूज से जुड़ी पौराणिक कथाएं / भाई दूज क्यों मानते हैं ? Why We Celebrate Bhai Dooj ?

पहली कथा – सूर्य देव तथा उनकी धर्मपत्नी छाया के घर में 2 बच्चों का जन्म हुआ, पुत्र यमराज तथा पुत्री यमुना। विवाह के पश्चात यमुना अपने भाई से ज़िद किया करती थी कि वह उसके घर पर आकर भोजन करें। परंतु व्यस्तता के कारण यमराज ऐसा नहीं कर पाते थे।

एक बार कार्तिक शुक्ल द्वितीया के दिन अचानक द्वार खोलने पर सामने यमराज को खड़ा देख यमुना प्रसन्नता से भाव-विभोर हो गई। उसने अपने भाई का प्रेम पूर्वक आदर सत्कार किया और उसे खुशी-खुशी भोजन कराया।

तब यमराज ने प्रसन्न होकर यमुना को वर मांगने के लिए कहा , तब बहन यमुना ने कहा कि आप प्रतिवर्ष इसी दिन मेरे घर आकर भोजन किया करें, और इसके साथ-साथ यह भी मांगा कि आज के दिन जो भी बहन अपने भाई का टीका करके उसे भोजन कराएगी उसे आपका ( यमराज ) भय न रहे।

यमराज तथास्तु कहकर वहां से चले गए। तभी से यह मान्यता प्रचलित है कि जो भाई कार्तिक शुक्ल द्वितीया को यमुना में स्नान करके अपनी बहनों का आतिथ्य स्वीकार कर भोजन ग्रहण करते हैं उन भाइयों और बहनों को यमराज का भय नहीं रहता। 

>> सभी मनोकामनाओं को पूर्ण करने वाले पर्व शारदीय नवरात्रि के बारे में जानें सम्पूर्ण जानकारी

दूसरी कथा – भाई दूज पर्व से जुड़ी दूसरी पौराणिक कथा इस प्रकार है कि एक बार भगवान श्री कृष्ण ने नरकासुर नाम के असुर को पराजित किया, उसके बाद वह अपनी बहन सुभद्रा से मिलने उसके घर गए।

भगवान कृष्ण की बहन सुभद्रा ने अपने भाई का पूरे गर्मजोशी के साथ स्वागत किया। क्योंकि भगवान कृष्ण नरकासुर को पराजित करके लौटे थे इसलिए सुभद्रा ने उनके मस्तक पर विजय तिलक लगाया, उसके बाद अपने भाई के लिए नाना प्रकार के पकवान और व्यंजन तैयार किए, उन्हें भोजन कराया और सेवा की।

भगवान कृष्ण को अपनी बहन का आतिथ्य बहुत भाया। माना जाता है कि तभी से कार्तिक शुक्ल द्वितीया को भाई अपनी बहन के घर जाते हैं, बहन उनके तिलक लगाती हैं और उनका आदर सत्कार करती हैं।

तीसरी कथा – एक बूढ़ी औरत थी, उसके सात बेटे और एक बेटी थी। उस बूढ़ी महिला के बेटों पर सर्प की कुदृष्टि रहती थी। बूढ़ी के बेटों की शादी के वक्त जब सातवाँ फेरा होता उसी समय सर्प उसे डस लेता। इस प्रकार उस महिला के 6 बेटों की मृत्यु हो गई।

>>जानिए श्राद्ध पक्ष की पूजा विधि, इतिहास और महत्व की सम्पूर्ण जानकारी

बुढ़िया ने डर से अपने सातवें बेटे का विवाह नहीं किया। परंतु भाई को यूं अविवाहित देखकर बहन को बहुत दुख होता था। बहन ने एक ज्योतिष के पास जाकर उससे उपाय पूछा। ज्योतिष ने बताया कि तेरे भाइयों पर सर्प की कुदृष्टि है यदि तुम अपने भाई के समस्त संकट खुद पर ले लो तो उसका जीवन बच जाएगा।

यह सुनकर बहन ने मन ही मन संकल्प किया कि वह अपने भाई का जीवन बचाकर रहेगी और उसके सभी संकट स्वयं पर ले लेगी। उस दिन के बाद उसका भाई जो भी कार्य करना चाहता, उस कार्य को पहले वह करती थी, और फिर भाई को करने देती।

अगर कोई उसे ऐसा करने से रोकता तो वह झगड़ा करती, जिद करती, चिल्लाती अंत में सभी को उसकी बात माननी पड़ती। उसके व्यवहार से सभी लोग खिन्न थे, परंतु उसने किसी की भी परवाह ना करते हुए अपने भाई की जीवनरक्षा की ठान ली थी।

कुछ दिनों बाद उसके भाई की शादी का दिन आया, जीजा के सेहरा बांधने को आगे बढ़ने के समय उसने रोका और कहा पहले मेरा सम्मान करो और मुझे सेहरा बांधो, उसने सेहरा ले लिया, उसके अंदर एक सर्प था जिसे उसने फेंक दिया। भाई के घोड़ी पर बैठने के समय उसने फिर से घोड़ी पर बैठने की जिद की, जब वह घोड़ी पर बैठी, घोड़ी पर एक सर्प था जिसे उसने दूर फेंक दिया।

द्वार पर जब दूल्हे का स्वागत हुआ तब उसने कहा पहले मेरा स्वागत करो, जब उसके गले में माला पहनाई गई उसमें भी एक सर्प था जिसे उसने फेंक दिया। जब विवाह की रस्में शुरू हुई तब सर्पों का राजा स्वयं उसे डसने आया, उस बहन ने उसे पकड़ कर एक टोकरी ढककर बंद कर दिया।

फेरों के समय स्वयं नागिन वहां आई और बहन से बोली मेरे पति को छोड़ दो, तब बहन ने शर्त रखी कि मेरे भाई से अपनी कुदृष्टि हटाओ तो तुम्हारे पति को छोड़ दूंगी। नागिन ने उसकी बात मान ली। इस प्रकार बहन ने सबके सामने खुद को अव्यवहारिक दिखाकर भी भाई के प्राणों की रक्षा की।

>>जानिए राष्ट्रभाषा हिन्दी के सम्मान एवं गौरव का दिन “हिन्दी दिवस” के बारे में विस्तृत जानकारी

भाई दूज के पर्व की मान्यता – Recognition of the Festival of Bhai Dooj

भाई दूज का पर्व हिन्दू धर्म में बहुत महत्वपूर्ण स्थान रखता है इस पर्व की मान्यता है कि बहन इस दिन यदि भाई का तिलक करती है तो इससे बहन भाई का प्रेम बढ़ता है और इसके साथ ही भाई की उम्र भी बढ़ती है।

ऐसा माना जाता है कि यमराज की बहन यमुना ने इस दिन अपने भाई से वचन लिया था कि भाई दूज मनाने वाली बहन को उनके ( यमराज के) भय से मुक्ति मिल जाएगी, और ऐसा करने से भाई की उम्र में वृद्धि होगी तथा बहन का सौभाग्य बढ़ेगा।

विभिन्न राज्यों व स्थानों में भाई दूज का पर्व Bhai Dooj Festival in Various places

भाई दूज का पर्व हिन्दू धर्म का एक विशिष्ट व महत्वपूर्ण पर्व है, यह समान महत्व के साथ ही देश के अधिकांश राज्यों व अन्य देशों में भी मनाया जाता है, हम अपने लेख Essay on Bhai Dooj | भाई दूज पर निबंध | भाई दूज कब है 2022 में कुछ का विवरण यहाँ दे रहे हैं ।

महाराष्ट्र में भाई दूज का पर्व – Bhai Dooj in Maharashtra

महाराष्ट्र में यह पर्व ‘भाऊ बीज’ के नाम से जाना जाता है। इस त्यौहार के दिन यहाँ बहनें अपने भाइयों के लिए प्रार्थना करती हैं, अनुष्ठान करती हैं। पूरे राज्य में यह पर्व भाऊ बीज, भतरु द्वितीया, भारती दिवस आदि कई अन्य नामों से भी जाना जाता है।

>> पढ़िए शिक्षकों के सम्मान का दिन “शिक्षक दिवस” के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी, भाषण व निबंध

पश्चिम बंगाल में भाई दूज का पर्व – Bhai Dooj in West Bengal

प0 बंगाल में यह त्यौहार प्रतिवर्ष दिवाली (काली पूजा ) के दो दिन बाद मनाया जाता है। इसे यहाँभाई फोटा भी कहा जाता है। यहाँ भी बहनें भाई को तिलक लगाकर उसकी दीर्घायु की कामना करती हैं, विभिन्न प्रकार के व्यंजन व बंगाल की प्रसिद्ध मिठाईयां तैयार करती हैं, तथा सभी इस पर्व का आनंद लेते हैं।

आंध्र प्रदेश में भाई दूज का पर्व – Bhai Dooj in Andhra Pradesh

आंध्र प्रदेश में भाई दूज के त्यौहार को भगिनी हस्त भोजनामकहा जाता है। यहां भी इस पर्व को कार्तिक मास शुक्ल पक्ष की द्वितीया को मनाते हैं। इस पर्व को यम द्वितीया के नाम से भी जाना जाता है तथा इसे यहां उत्तर भारत की ही तरह पूर्ण आस्था के साथ मनाते हैं।

उत्तर प्रदेश में भाई दूज का पर्व – Bhai Dooj in Uttar Pradesh

उत्तर प्रदेश में भाई दूज का पर्व बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। यहाँ बहनें अपने भाई का तिलक करके उन्हें सूखा नारियल और बताशे देती हैं, भाई भी उन्हे कुछ उपहार व शगुन देते हैं।

बिहार में भाई दूज का पर्व – Bhai Dooj in Bihar

बिहार में भी यह त्यौहार धूम-धाम से मनाया जाता है, यहाँ भाई-दूज पर एक विशेष प्रकार की परंपरा है, यहाँ बहनें भाई दूज के दिन भाई को डांटती हैं बाद में उनसे क्षमा मांगती हैं। फिर बहनें भाइयों का तिलक करके उन्हें मीठा खिलाती हैं।

नेपाल में भाई दूज का पर्व – Bhai Dooj in Nepal

भारत के पड़ोसी देश नेपाल में इस त्यौहार को ‘भाई टीका’ या ‘भाई तिहार’ के नाम से मनाया जाता है। यहां भी बहनें अपने भाई के माथे पर तिलक लगाकर उसके लंबे जीवन की कामना करती हैं। भाई भी इस अवसर पर अपनी बहनों को कुछ ना कुछ उपहार अवश्य देते हैं, और इस त्योहार का आनंद लेते हैं। नेपाल में दशहरा के बाद यह त्यौहार सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक माना जाता है।

>> पढिए गणेश चतुर्थी पर्व को मनाने का कारण, इतिहास, महत्व और गणपति के जन्म की अनसुनी कथाएं

भाई दूज पर्व पर 10 लाइन – 10 Lines on Bhai Dooj Festival

  • भाई दूज का त्यौहार कार्तिक मास में शुक्ल पक्ष की द्वितीया को मनाया जाता है।
  • यह खूबसूरत व महत्वपूर्ण त्यौहार दिवाली के 2 दिन बाद मनाते हैं।
  • इस पर्व को यम द्वितीया के नाम से भी जाना जाता है।
  • इस त्योहार को विभिन्न राज्यों और देशों में अलग-अलग नामों से मनाया जाता है।
  • इस पर्व पर बहनें भाई को तिलक लगाकर गोला (सूखा नारियल) देती हैं और उनके दीर्घायु होने की कामना करती हैं।
  • भाई भी अपनी बहनों को इस दिन उपहार और शगुन ( रुपए) देते हैं।
  • शादीशुदा बहनें भाइयों को इस त्यौहार के दिन अपने घर बुलाती हैं, उनका स्वागत सत्कार करती हैं, उन्हें नाना प्रकार के भोजन बना कर खिलाती हैं।
  • भाई बहन के अगाध प्रेम को प्रदर्शित करने वाला रक्षाबंधन के बाद यह दूसरा बड़ा पर्व है।
  • एक पौराणिक मान्यता है कि यमराज ने अपनी बहन यमुना को वचन दिया था कि इस दिन जो भी भाई अपनी बहन के घर जाकर उससे तिलक कराएंगे, भोजन करेंगे, उन्हें स्वस्थ एवं दीर्घायु जीवन की प्राप्ति होगी।
  • दीपावली का पंच-पर्व उत्सव भाई दूज ( यम द्वितीया) के दिन समाप्त हो जाता है।

>> पढिए भक्ति रस से सराबोर पर्व जन्माष्टमी का विस्तृत वर्णन

निष्कर्ष – Conclusion

रक्षाबंधन की तरह भाई दूज का पर्व भी भाई-बहन का महत्वपूर्ण त्योहार है। इस दिन भाई-बहन एक दूसरे के प्रति अपने प्रेम को प्रदर्शित करते हैं, और दोनों एक दूसरे के स्वस्थ, सुरक्षित व सुखमय जीवन की कामना करते हैं।

बहनें इस दिन भाई की दीर्घायु की कामना करती हैं, अतः भाइयों को भी उनके सुख-दुख में शामिल होने के लिए हमेशा तत्पर रहना चाहिए, क्योंकि यह एक ऐसा अनमोल रिश्ता है जिसके समान दूसरा कोई नहीं।

FAQ

 प्रश्न – भाई दूज कब है 2022 ?

उत्तर – 2022 में भाई दूज का पर्व 26 अक्टूबर बुधवार को मनाया जाएगा।

प्रश्न – भाई दूज का त्यौहार कैसे मनाया जाता है?

उत्तर – इस दिन भाई अपनी बहनों के घर जाते हैं, बहने भाई के माथे पर मंगल टीका लगाकर उन्हें गोला ( सूखा नारियल) और मिठाई देती है, तथा उनके अच्छे स्वास्थ्य और लंबी उम्र की कामना करती हैं । भाई भी अपनी बहनों को उपहार और शगुन ( रुपये ) देते हैं।

प्रश्न- भाई दूज पर बहनें क्या करती हैं?

उत्तर- भाई दूज पर बहनें अपने भाई का टीका करके उनके दीर्घायु होने की कामना करती हैं।

प्रश्न – भाई दूज का त्यौहार क्यों मनाया जाता है?

उत्तर- भाई दूज का पर्व भाई-बहन के असीम प्रेम व स्नेह को बनाए रखने व एक दूसरे के प्रति प्रेम प्रदर्शित करने के लिए मनाया जाता है। 

प्रश्न – भाई दूज का क्या महत्व है ?

उत्तर- भाई दूज का त्योहार भाई बहन के रिश्तेऔर प्रेम की प्रगाढ़ता को प्रदर्शित करने वाला पर्व है। इस त्योहार पर बहनें भाई का तिलक करती हैं , उन्हें स्वादिष्ट भोजन कराती हैं और उनके स्वस्थ जीवन व दीर्घायु की कामना करती हैं। इसीलिए भाई बहन के प्रेम को जीवंत रखने के लिए यह त्यौहार हर वर्ष मनाया जाता है।

हमारे शब्द – Our Words

दोस्तों ! आज के इस लेख  Essay on Bhai Dooj | भाई दूज पर निबंध | भाई दूज कब है 2022 में हमने आपको Essay on Bhai Dooj के बारे में वृहत जानकारी उपलब्ध कराई है , हमें पूर्ण आशा है कि आपको Essay on Bhai Dooj पर यह जानकारी और यह लेख अवश्य पसंद आया होगा। यदि आप में से किसी भी व्यक्ति को इस लेख से संबंधित कुछ जानकारी अथवा सवाल पूछना हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमसे पूछ सकते हैं।

मित्रों ! आपको हमारे लेख तथा उनसे संबंधित विस्तृत जानकारी कैसी लगती है इस बारे में हमें कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखते रहें, दोस्तों जैसा कि मैंने पहले भी कहा है कि आपकी समालोचना ही हमारी प्रेरणा है। अतः कमेंट अवश्य करें।

अंत में – हमारे आर्टिकल पढ़ते रहिए, हमारा उत्साह बढ़ाते रहिए, खुश रहिए और मस्त रहिए।

ज़िंदगी को अपनी शर्तों पर जियें ।  

अस्वीकरण – Disclaimer

इस लेख में दी गई किसी भी जानकारी, सामग्री या गणना में निहित सटीकता या विश्वसनीयता की जिम्मेदारी sanjeevnihindi.com की नहीं है। ये जानकारी हम विभिन्न माध्यमों, मान्यताओं, ज्योतिषियों तथा पंचांग से संग्रहित कर आप तक पहुंचा रहे हैं। जिसका उद्देश्य मात्र आप तक सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे केवल सूचना की तरह ही लें। इसके अलावा इस जानकारी के  सभी प्रकार के उपयोग की सम्पूर्ण जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।

>> लगातार दो बार ओलंपिक पदक विजेता पीवी सिंधु की जीवनी, कैरियर, रिकॉर्ड, संघर्ष, उपलब्धियां व नेटवर्थ     

>> पेशावर कांड के महानायक वीर चंद्र सिंह गढ़वाली की जीवनी, जीवन परिचय

 >> क्रिसमस डे 2021 पर निबंध हिंदी में | Essay on Christmas Day 2021 in Hindi

>> नए साल पर निबंध 2022 हिंदी Happy New Year Essay In Hindi 2022

>> सिक्खों के दशम गुरु, श्री  गुरु गोबिन्द सिंह का जीवन परिचय एवं इतिहास     

>> जानें, क्या है मकर संक्रान्ति पर्व, क्यों मनाते हैं? महत्व, पूजा विधि की सम्पूर्ण जानकारी

>> भारतीय वैज्ञानिक डॉ0 गगनदीप कांग की जीवनी   

>> भारतीय क्रिकेट स्टार झूलन गोस्वामी का जीवन परिचय 

>>  भारतीय गणतंत्र दिवस पर निबंध 2022

>> स्वर-साम्राज्ञी-लता मंगेशकर का जीवन परिचय, जीवनी

>> भारतीय क्रिकेट के हिटमैन रोहित शर्मा का जीवन परिचय, जीवनी

>> पढ़ाने के खास अंदाज़  के लिए प्रसिद्ध खान सर पटना का जीवन परिचय

>> महान संत तुलसीदास का जीवन परिचय, जीवनी        

>> शार्क टैंक इण्डिया क्या है, About Shark Tank India 2022, Shark Tank India Registration

>> रंगों व मस्ती के पर्व होली पर निबंध 2022, इतिहास, महत्व

>> 5 Best Poems Collection | कविता-संग्रह | जीवन-सार

>>  देश के अलौकिक पर्व नवरात्रि पर निबंध, Chaitra Navratri 2022

>> माँ भारती के सच्चे सपूत, शहीद भगत सिंह का जीवन परिचय 

>> उपन्यास सम्राट प्रेमचन्द का जीवन परिचय  

>> देश का गौरव, मिसाइल मैन, ए पी जे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय

>> महान भारतीय संत स्वामी विवेकानंद का जीवन परिचय, जीवनी

>> जलियांवाला बाग हत्याकांड, भारतीय इतिहास का काला दिन के बारे में सम्पूर्ण जानकारी

>> Pradhanmantri Sangrahalaya in Hindi | प्रधानमंत्री संग्रहालय उद्घाटन 2022

>> भारतीय क्रिकेट के पूर्व आक्रामक कप्तान विराट कोहली का जीवन परिचय

>> सोशल मीडिया सनसनी उर्फी जावेद का जीवन परिचय, Urfi Javed Biography in Hindi

>>  Uttarakhand GK in hindi | उत्तराखंड सामान्य ज्ञान श्रृंखला भाग 1

>> भारत के अंतिम व पराक्रमी हिन्दू राजा पृथ्वीराज चौहान का जीवन परिचय, इतिहास

>>  जानिए महान संत कवि कबीर दास जी के जीवन व रचनाओं के बारे में सविस्तार जानकारी   

>> जानिए महान भक्त कवि सूरदास जी के जीवन व रचनाओं के बारे में सविस्तार जानकारी   

>> एक शिक्षिका से राष्ट्रपति तक का सफर, जानिए द्रौपदी मुर्मू का जीवन परिचय में

>>  पूर्व भारतीय महिला क्रिकेट कप्तान मिताली राज का जीवन परिचय    

>> फिल्म इंडस्ट्री के चॉकलेटी बॉय रणबीर कपूर का जीवन परिचय, आनेवाली फिल्में, नेटवर्थ

>> कौन हैं ऋषि सुनक ? Rishi Sunak Biography in Hindi

>> देश का गौरव भाला फेंक एथलीट, ओलंपिक 2021स्वर्ण पदक विजेता, नीरज चोपड़ा का जीवन परिचय

>> भाई-बहन के प्रेम, स्नेह का प्रतीक रक्षा बंधन के त्यौहार पर निबंध

>>   देश की बेटी, गोल्डन गर्ल मीराबाई चानू के संघर्ष व उपलब्धियों की गाथा   

Leave a Comment

error: Content is protected !!